14.6 C
Delhi
Friday, January 22, 2021

एक ऐसा चावल जिसे आप बिना पकाये खा सकते है

Must read

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

आइए जानते हैं सड़कों पर क्यों बनाई जाती है सफेद और पीले रंग की लाइन

हम सब ज्यादातर सड़क मार्ग से ही सफर करते हैं इसलिए ज्यादातर लोगों ने सड़क पर सफेद और पीले रंग की पार्टियों को देखा...

आंखों की थकावट और सूजन को दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके

जब बहुत ज्यादा देर तक जब सोने के बाद सुबह सो कर उठे हैं तो अक्सर हमारी आंखें सूजी हुई और थकी हुई नजर...

क्या जापान जानता है Subhash Chandra Bose के गायब होने का पूरा सच!

आजादी के महानायक नेता Subhash Chandra Bose के गायब होने का सच जापान को पता है, ऐसा कहना है नेताजी के परपौत्र चंद्र कुमार...

असम में एक ऐसा चावल पाया जाता है जिसे आप बिना पानी में उबाले खा सकते हैं । इस चावल का नाम है बोका चाउल (चावल) या असमिया मुलायम चावल (ओरीजा सातिवा) । नलबारी, बारपेटा, गोलपाड़ा, बक्सा, कामरूप, धुबरी, और कोकराझर असम के ये जिले हैं जहाँ इसकी खेती बहुतायत से होती है । किसी ज़माने में ये मुग़ल सैनिकों का मुख्य राशन हुआ करता था ।

बोका चाउल (चावल) का इतिहास 17 वी से जुड़ा है । बिना ईंधन के आप इसे पका सकते हैं बस आप को सामान्य तापमान पर इसको थोड़ा सा पानी में भिगोना होगा । चना मुंग या बादाम अंकुरित होने के बाद जैसा होता है ये चावल भी वैसा ही हो जायेगा ।

बोका चाउल (चावल) को जीआई टैग के साथ पंजीकृत किया गया है । ये टैग उन उत्पादों को दिया जाता है जिनकी उत्पति  किसी विशिष्ट भौगोलिक क्षेत्र में  हो । भारत में  मुगा सिल्‍क, जोहा राइस और तेजपुर लीची के बाद यह एक मात्र उत्पाद है जिसको ये जीआई टैग मिला है । असम राज्य का अब इस चावल पर अब जीआई टैग मिलने क़ानूनी  अधिकार हो गया है।

बोका चाउल (चावल) को असम के लोग गुड़, दूध, दही, चीनी या अन्य बस्तुओं के साथ कहते हैं । इस चावल का उपयोग स्थानीय पकवानो में भी किया जाता है ।

लोटस प्रोगरेसिव सेंटर के संस्थापक हेमंत बैश्य ने इस चावल को 2016 में जीआई टैग के लिए आवेदन किया था । लोटस प्रोगरेसिव सेंटर की स्थापना 1999 में चावल  की किस्मो की  संरक्षण करने के उदेश्य से की गयी  थी ।

बोका चाउल (चावल) को असम के लोग जून के महीने में बोते है और दिसंबर के महीने में इसे काटते हैं।

यह खाने में स्वादिस्ट और अत्यधिक पौष्टिक भी है । बोका चाउल (चावल) में 10.73 प्रतिशत फाइबर सामग्री और 6.8 प्रतिशत प्रोटीन है, गौहाटी विश्वविद्यालय के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के एक अध्ययन में इसका खुलासा हुआ ह।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

आइए जानते हैं सड़कों पर क्यों बनाई जाती है सफेद और पीले रंग की लाइन

हम सब ज्यादातर सड़क मार्ग से ही सफर करते हैं इसलिए ज्यादातर लोगों ने सड़क पर सफेद और पीले रंग की पार्टियों को देखा...

आंखों की थकावट और सूजन को दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके

जब बहुत ज्यादा देर तक जब सोने के बाद सुबह सो कर उठे हैं तो अक्सर हमारी आंखें सूजी हुई और थकी हुई नजर...

क्या जापान जानता है Subhash Chandra Bose के गायब होने का पूरा सच!

आजादी के महानायक नेता Subhash Chandra Bose के गायब होने का सच जापान को पता है, ऐसा कहना है नेताजी के परपौत्र चंद्र कुमार...

क्यों होता है पेट का कैंसर ( Colon Cancer ) ? क्या है इसके शुरुआती लक्षण

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर कि किसी भी हिस्से मे कभी भी हो सकती है। ज्यादातर हम लोग गले का कैंसर,...