जैतून के पत्तों का काढ़ा के सेवन से शुगर कण्ट्रोल किया जा सकता है , इस तरह इस्तेमाल करें

जैतून के पत्तों का काढ़ा के सेवन से शुगर कण्ट्रोल किया जा सकता है , इस तरह इस्तेमाल करें

मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो एक बार हो जाने के बाद जीवन भर के लिए इससे छुटकारा पाना असंभव हो जाता है। दरअसल, यह रोग इसलिए होता है क्योंकि अग्न्याशय द्वारा रक्त शर्करा और इंसुलिन हार्मोन अनियंत्रित रूप से जारी नहीं होते हैं।

यह समस्या खाने-पीने में लापरवाही, गतिहीन जीवन शैली आदि और खराब जीवनशैली के कारण होती है। मधुमेह रोगियों को अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।

अगर आप भी डायबिटीज से जूझ रहे हैं तो कुछ घरेलू नुस्खे हैं जिनका इस्तेमाल करके आप शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकते हैं।

इन्हीं उपायों में से एक है जैतून के पत्तों से बना काढ़ा। अगर आप जैतून के पत्तों को उबालकर नियमित रूप से इनका सेवन करते हैं तो आपको इनसे काफी फायदा हो सकता है।

जैतून के पत्तों के फायदे

वेमेड के अनुसार, जैतून के पत्तों में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। इतना ही नहीं, यह रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर और स्वस्थ स्तर पर रखने में भी बहुत सहायक है।

शोध में पाया गया है कि जैतून के पत्तों का अर्क शरीर के इंसुलिन प्रतिरोध को कम कर सकता है, जो मधुमेह के लिए सबसे बड़े जोखिम कारकों में से एक है।

इसके और भी कई फायदे हैं

इसका सेवन प्रतिरक्षा को बढ़ाता है और कई पुरानी बीमारियों जैसे हृदय, कैंसर, पार्किंसंस, अल्जाइमर आदि में मदद करता है।

यह अच्छे कोलेस्ट्रॉल को भी बढ़ाता है और खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण त्वचा को स्वस्थ रखते हैं और शरीर में किसी भी प्रकार की सूजन को कम करते हैं।

ऐसा काढ़ा बनाएं

जैतून के पत्तों को अच्छी तरह से साफ करके एक गिलास पानी में उबाल लें। अगर यह उबलकर आधा रह जाए तो इसमें काली मिर्च और नमक डालें और इसका इस्तेमाल करें। नमक की जगह आप अपने स्वाद के हिसाब से शहद का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

हिंदी समाचार ऑनलाइन पढ़ें और हिंदी वेबसाइट पर लाइव टीवी समाचार18 देखें। देश-विदेश और अपने राज्य, बॉलीवुड, खेल जगत, व्यवसाय से नवीनतम जानकारी प्राप्त करें।

यह भी पढ़ें :–

कोविड और पोषण: कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में पोषक तत्व क्यों महत्वपूर्ण हैं, जानिए विशेषज्ञों की राय

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *