21 C
Delhi
Saturday, February 27, 2021

जॉन अब्राहम आखिर क्यों कर रहर देशभक्ति टाइप की फिल्में ये है वजह

Must read

पीएम किसान सम्मान : RTI से पता चला 20 लाख से अधिक अपात्र लोगों को भेज दी गई करोड़ों की धनराशि

लोकसभा चुनाव के ठीक मोदी - 2 सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना पीएम किसान सम्मान को लागू...

अफ्रीका का यह राजा हर साल शादी करता है और जी रहा आराम की जिंदगी

दुनिया के अधिकांश देशों से राजशाही व्यवस्था को सालो पहले से खत्म कर दिया गया है। लेकिन अफ्रीका में आज भी एक ऐसा देश...

आइए जानते हैं टीवी चैनल्स के आमदनी का जरिया टीआरपी(TRP) के बारे में

आज कल हम अक्सर यह सुनते हैं कि टीवी चैनल की टीआरपी बढ़ रही है या फिर घट रही हैं। दरअसल टीवी चैनल की...

कोरोना काल में लोगों में बढ़ा मोटापा, आर्थिक चिंता और भावनात्मक तनाव से भी हैं लोग परेशान

कोरोना वायरस महामारी पर काबू पाने के लिए दुनिया भर के कई देशों ने लॉकडाउन के विकल्पों को अपनाया था। अब इसके संबंध में...

बॉलीवुड अभिनेता जॉन अब्राहम को पिछले कुछ समय से देश भक्ति फिल्मों में देखा जा रहा है चाहे वो फिर परमाणु हो, सत्यमेव जयते हो या फिर अब बटाला हाउस । इन फिल्मों में जॉन अब्राहम को हम देश भक्त हीरो के किरदार निभाते देखे । एक इंटरव्यू के दौरान जब उनसे पूछा गया कि क्या वह हिंदी सिनेमा के नये भारत कुमार बनाने जा रहे हैं तो उन्होंने कहा कि नहीं ऐसा कोई इरादा नहीं है मैंने ऐसे किसी भी नहीं है । मैंने ऐसी कहानियां चुनी जो आज की पीढ़ी को बताना जरूरी है और मैं इन कहानियों को कहने की कोशिश आगे भी करता रहूंगा ।

जॉन अब्राहम का कहना है कि हमारी पीढ़ी किताबें पढ़ रही है, अखबार हम और आप पढ़ रहे हैं लेकिन हमारी नई पीढ़ी इन सब से नाता तोड़ रही है इसलिए जरूरत है हिंदुस्तान की कहानी को हिंदुस्तान के दर्शकों तक पहुंचाने की । नई पीढ़ी के युवा हर तरफ दिलचस्प कहानियां खोज रहे हैं, हॉलीबुड सिनेमा देख रहे हैं, इनको वापस हिंदी सिनेमा तक लाने का एक ही जरिया है । हमारे और आपके बीच की ऐसी अनसुनी कहानियां जो दिलचस्प हो मनोरंजक और अपनेपन की भावना को जगाती है उनको पर्दे पर लाना ।

जब जॉन अब्राहम से पूछा गया कि वे कहानियां कैसे चुनते हैं और उन तक कैसे पहुँचते हैं तो उन्होंने जवाब दिया कि उनका कहानियों को चुनने का बस एक ही तरीका है कहानी सीधे मेरे दिमाग को जब झकझोरती है तो मैं समझ जाता हूं कि यह सही कहानी है , जैसे मैं कहीं भी रहूं दुनिया के किसी भी कोने में मैं तिरंगा लहराता देखता हूं तो मेरे रोए खड़े हो जाते हैं । जॉन अब्राहम का कहना है कि वे दर्शकों को पुल्कित प्रफुल्लित और प्रभावित करने वाली कहानिया बताना चाहते है । ऐसी कहानी तक पहुंच के लिए उन्होंने बताया कि वह लेखकों के लिए हमेशा उपलब्ध रहते हैं । उन्होंने अभी अभी दिल्ली में एक न्यूज़ चैनल में मुझे एक कहानी सुनने को मिली और हम इस पर काम कर रहे हैं ।

जॉन अब्राहम ने आगे बताया कि वे लोग कहानी तय कर चुके हैं यह कहानी 1911 में हुए एक ऐसे फुटबॉल मैच की कहानी है जिससे देश की राजधानी कोलकाता से बदलकर दिल्ली हो गई । यह ब्राम्हणों की एक फुटबॉल टीम की कहानी है जो अपने धर्म के चलते जूते नहीं पहन सकते, और इन ब्राम्हण फुटबॉल खेलने वालों को परेशान करने के लिए अंग्रेजों ने पूरे मैदान में कंकड़ बिछा दिए थे । तो इस तरह से जॉन अब्राहम अपनी फिल्मों की कहानियां सुननी है तो आने वाले समय में इस कहानी पर हमें एक दिलचस्प फिल्म देखने को मिलेगी जिसका लगभग हर युवा इंतजार करता होगा खास करके ले जाना हम के बहुत बड़े फैन है ।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

पीएम किसान सम्मान : RTI से पता चला 20 लाख से अधिक अपात्र लोगों को भेज दी गई करोड़ों की धनराशि

लोकसभा चुनाव के ठीक मोदी - 2 सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना पीएम किसान सम्मान को लागू...

अफ्रीका का यह राजा हर साल शादी करता है और जी रहा आराम की जिंदगी

दुनिया के अधिकांश देशों से राजशाही व्यवस्था को सालो पहले से खत्म कर दिया गया है। लेकिन अफ्रीका में आज भी एक ऐसा देश...

आइए जानते हैं टीवी चैनल्स के आमदनी का जरिया टीआरपी(TRP) के बारे में

आज कल हम अक्सर यह सुनते हैं कि टीवी चैनल की टीआरपी बढ़ रही है या फिर घट रही हैं। दरअसल टीवी चैनल की...

कोरोना काल में लोगों में बढ़ा मोटापा, आर्थिक चिंता और भावनात्मक तनाव से भी हैं लोग परेशान

कोरोना वायरस महामारी पर काबू पाने के लिए दुनिया भर के कई देशों ने लॉकडाउन के विकल्पों को अपनाया था। अब इसके संबंध में...

आइए जानते हैं उन मशहूर वैज्ञानिकों को जिनकी जान उनके आविष्कार के चलते ही गई

कभी-कभी वैज्ञानिक कुछ ऐसा आविष्कार कर देते हैं जो उनकी मौत की वजह बन जाती है। वैसे किसी नई चीज को खोजना यानी अविष्कार...