सौर ऊर्जा से उत्पादित बिजली के मामले में चीन भविष्य में बाजी मार सकता है

जनरल नेचर एनर्जी में प्रकाशित शोध अध्ययन के मुताबिक करीब 344 चीनी शहरों में सरकारी ग्रिड से कम कीमत पर सौर ऊर्जा का उत्पादन करने वाले सोलर सिस्टम हैं और शोधकर्ताओं का मानना है कि सौर ऊर्जा को नवीनीकरण ऊर्जा के रूप में और ज्यादा निवेश करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है चीन ने सौर  परियोजनाओं को विकसित करने के लिए 2017-20 के बीच सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन के लिए करीब 367 बिलियन डालर का निवेश करने का लक्ष्य रखा है स्वीडन के स्टॉकहोम में रॉयल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी की रिसर्च टीम के अनुसार करीब 22 फ़ीसदी शहरों में सौर ऊर्जा से प्राप्त होने वाली बिजली कोयले से उत्पादित होने वाली बिजली का मुकाबला कर सकती है

काफी समय से चीन अपनी  ऊर्जा जरूरतों को पूरी करने के लिए कोयले पर निर्भर रहा है लेकिन चीन कई सारे  कोयला खदानों को बंद करने के बाद और पिछले कुछ वर्षों से चीन में हो रहे भारी प्रदूषित क्षेत्रों में कोयला बिजली संयंत्रों के निर्माण को प्रतिबंधित करना शुरू हो गया है लेकिन इसके बावजूद न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार चीन में 59  फ़ीसदी  बिजली का उत्पादन कोयले से किया जाता है लेकिन शोधकर्ताओं का कहना है कि आने वाले समय में सौर ऊर्जा की सस्ती कीमतों  के कारण वाणिज्य क्षेत्र को सौर ऊर्जा के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है एक रिपोर्ट के अनुसार सौर ऊर्जा प्रणाली की कीमतों को कम करने के लिए दुनिया भर में प्रयास किए जा रहे हैं, चीन ने इस दिशा में काफी निवेश कर रहा है

चीनी शहरों में सौर ऊर्जा आर्थिक गतिशीलता को बढ़ावा दे रही है,जिससे वहां के जलवायु परिवर्तन पर नियंत्रण रखा जा सके  और इससे सारी दुनिया में एक सकारात्मक संदेश जा सके रिपोर्ट के मुताबिक लोगों में सौर ऊर्जा उद्योग से निकलने वाले कचरे को लेकर चिंताएं बढ़ गई हैं सौर ऊर्जा का उत्पादन कम लागत का तो हैं लेकिन सौर पैनल से निकले कचरे की बढ़ती मात्रा एक चिंता का विषय है इंटरनेशनल रिन्यूएबल एनर्जी एजेंसी के अनुसार अकेले चीन दो सौ मिलियन सोलर पैनल कचरे का उत्पादन 2050 तक करेगा और चीनी सौर पैनल निर्माता को इसके लिए स्थानीय लोगों से विरोध का सामना करना पड़ रहा है   सौर पैनल निर्माताओं पर कचरे को गलत तरीके से रखने का आरोप लगता रहा है लोगों को कहना है कि इन कचरो से पास की एक बड़ी नदी में काफी संख्या में मछलियों की मौत हो गई थी सौर ऊर्जा सस्ती होने के साथसाथ पर्यावरण के अनुकूल  भी है परंतु सौर पैनल के निर्माण से निकलने वाले कचरे के प्रबंधन पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *