21 C
Delhi
Saturday, February 27, 2021

तीन वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से इस साल चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार

Must read

ओटीटी (OTT) प्लेटफॉर्म क्या है और यह डिजिटल मीडिया पर क्यों धूम मचा रहा है?

आज से कुछ साल पहले लोगों को कई सारे काम करने के लिए घर से बाहर जाना होता था। किंतु आज के इंटरनेट के...

पीएम किसान सम्मान : RTI से पता चला 20 लाख से अधिक अपात्र लोगों को भेज दी गई करोड़ों की धनराशि

लोकसभा चुनाव के ठीक मोदी - 2 सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना पीएम किसान सम्मान को लागू...

अफ्रीका का यह राजा हर साल शादी करता है और जी रहा आराम की जिंदगी

दुनिया के अधिकांश देशों से राजशाही व्यवस्था को सालो पहले से खत्म कर दिया गया है। लेकिन अफ्रीका में आज भी एक ऐसा देश...

आइए जानते हैं टीवी चैनल्स के आमदनी का जरिया टीआरपी(TRP) के बारे में

आज कल हम अक्सर यह सुनते हैं कि टीवी चैनल की टीआरपी बढ़ रही है या फिर घट रही हैं। दरअसल टीवी चैनल की...

नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा शुरू हो गई है । इस साल चिकित्सा के क्षेत्र में तीन वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा । चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार पाने वाले वैज्ञानिक विलियम जी केलिन, सर पीटर जे रेडक्लिफ और जार्ज एल सेमेंजे है । इन तीनों वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से इस बात के लिए पुरस्कार दिया जाएगा कि  कैसे सेल्स ऑक्सीजन को जलाते हैं, और फिर उसकी वजह से शरीर को उर्जा कैसे मिलती हैं और नई कोशिकाएं कैसे बनती हैं । चिकित्सा क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार की घोषणा के बाद अगले दिन भौतिक के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार पाने वाले विजेताओं के नाम की घोषणा की जाएगी ।

इस तरह से अगले 14 अक्टूबर तक अन्य पांच क्षेत्रों के लिए सभी विजेताओं के नामों की घोषणा कर दी जाएगी । मालूम हो कि साल 2018 और 2019 के लिए साहित्य नोबेल पुरस्कारों की घोषणा का ऐलान  स्वीडिश अकैडमी द्वारा किया जाएगा  । पिछले साल यौन उत्पीड़न मामले की वजह से  साल 2018 का साहित्य का नोबेल पुरस्कार स्थगित कर दिया गया । इस साल का चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार पाने वाले वैज्ञानिकों में विलियम जी कैलिन जूनियर का जन्म 1957 में न्यूयॉर्क में हुआ था । विलियम ने ड्यूक विश्वविद्यालय से एमडी की डिग्री हासिल करने के बाद जॉन होपकिंसन विश्वविद्यालय और बोस्टन के दाना फार्बर कैंसर इंस्टिट्यूट से विशेष प्रशिक्षण हासिल किया है ।

वहीं दूसरी वैज्ञानिक इंग्लैंड के सर पीटर जे रेडक्लिफ का जन्म लंकाशायर में 1954 में हुआ था   पीटर ने कैंब्रिज विश्वविद्यालय से चिकित्सा की पढ़ाई की है और  तीसरे वैज्ञानिक जार्ज एल सेमेंजा का जन्म 1956 में हुआ था और वे न्यू ईयर के रहने वाले हैं । जॉर्ज ने हावर्ड विश्वविद्यालय से बायोलॉजी में B.A. करने के बाद पेंसिलवेनिया विश्वविद्यालय से एमडी / पीएचडी की डिग्री हासिल की है । इन तीनों वैज्ञानिकों में करीब साढ़े चार करोड़ की धनराशि का बंटवारा किया जाएगा । मालूम हो कि नोबेल पुरस्कार पाने वाले हर विजेता को करीब साढ़े चार करोड़ रुपये की धनराशि प्रदान की जाती है और इसके साथ ही 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का एक पदक और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है ।

इस पदक के एक ओर नोबेल पुरस्कार के जनक अलफ्रेंड नोबेल की तस्बीर के साथ उनके जन्म और मृत्यु तारीख लिखी रहती है और दूसरी तरफ  यूनानी देवता आइसिस का चित्र  रॉयल अकैडमी आफ साइंस स्टॉकहोम तथा पुरस्कार पाने वाले व्यक्ति के बारे में जानकारियां लिखी रहती है । मालूम हो कि हर साल चिकित्सा, भौतिक, रसायन, शांति, साहित्य, अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया जाय है ।

 

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

ओटीटी (OTT) प्लेटफॉर्म क्या है और यह डिजिटल मीडिया पर क्यों धूम मचा रहा है?

आज से कुछ साल पहले लोगों को कई सारे काम करने के लिए घर से बाहर जाना होता था। किंतु आज के इंटरनेट के...

पीएम किसान सम्मान : RTI से पता चला 20 लाख से अधिक अपात्र लोगों को भेज दी गई करोड़ों की धनराशि

लोकसभा चुनाव के ठीक मोदी - 2 सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना पीएम किसान सम्मान को लागू...

अफ्रीका का यह राजा हर साल शादी करता है और जी रहा आराम की जिंदगी

दुनिया के अधिकांश देशों से राजशाही व्यवस्था को सालो पहले से खत्म कर दिया गया है। लेकिन अफ्रीका में आज भी एक ऐसा देश...

आइए जानते हैं टीवी चैनल्स के आमदनी का जरिया टीआरपी(TRP) के बारे में

आज कल हम अक्सर यह सुनते हैं कि टीवी चैनल की टीआरपी बढ़ रही है या फिर घट रही हैं। दरअसल टीवी चैनल की...

कोरोना काल में लोगों में बढ़ा मोटापा, आर्थिक चिंता और भावनात्मक तनाव से भी हैं लोग परेशान

कोरोना वायरस महामारी पर काबू पाने के लिए दुनिया भर के कई देशों ने लॉकडाउन के विकल्पों को अपनाया था। अब इसके संबंध में...