राजनीति

जम्मू कश्मीर में सेना की थी पहले से तैयारी

जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाने से पहले सेना ने हर तरह की समस्या से निपटने के लिए पहले से ही तैयारी कर रखी थी सेना प्रमुख बिपिन रावत तैयारियों का जायजा लेने के लिए जम्मूकश्मीर भी गए थे सांसद में जम्मू कश्मीर से संबंधित अनुच्छेद 370 को हटाने वाले प्रस्ताव को लाने से पहले सभी तरह की चुनौतियों और संकट से निपटने के लिए कश्मीर में सुरक्षाबलों की तैनाती बढ़ा दी गई थी और उन्हें अलर्ट कर दिया गया था कि आने वाले समय में घाटी से संबंधित कुछ बड़े निर्णय लिए जा सकते हैं

केंद्र सरकार द्वारा संसद में प्रस्ताव पेश करके अनुच्छेद 370 को समाप्त कर दिया गया और उसके साथ ही जम्मू कश्मीर और लद्दाख को दो नए केंद्र शासित प्रदेश बना दिए गए इसे मोदी सरकार का एक ऐतिहासिक फैसला कहा जाता है भारतीय सेना द्वारा एलओसी पर पाकिस्तान की ओर से कोई भी नापाक हरकत से निपटने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बलों की भी तैनाती कर दी गई थी   एक रक्षा अधिकारी के अनुसार विभिन्न स्थानों पर खासतौर से दक्षिण कश्मीर में स्थानीय कमांडर ने किसी भी तरह की अशांति फैलाने वाली घटना से निपटने की तैयारी शुरू कर दी थी कुछ जगहों पर खुद सेना प्रमुख बिपिन रावत ने तैयारियों का जायजा दिया था लेकिन स्थानीय कमांडरों को एझ बात की कोई भी जानकारी नहीं दी गई थी कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाया जा सकता है बस उन्हें चुनौतियों से निपटने के लिए आगाह किया गया था

सेना द्वारा किसी भी चुनौती से निपटने के लिए   राष्ट्रीय राइफल और अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती घाटी में कर दी गई थी आंकड़ों के मुताबिक घाटी में ढाई सौ आतंकवादी हो सकते हैं जो यहां पर चुनौतियां पैदा कर सकते हैं और इन्हीं से निपटने के लिए तथा घाटी में शांति बनाए रखने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती की गई सुरक्षाबलों को संवेदनशील क्षेत्रों में ज्यादा संख्या में तैनात किया गया है घाटी में सुरक्षाबल पूरी क्षमता से संकट पैदा करने वाली स्थिति से निपटने के लिए तैयार है  मालूम हो जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाली अनुच्छेद 370 को समाप्त करने का प्रस्ताव दोनों सदनों में पास कर दिया गया

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *