राजनीति

जम्मू कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान को किसी का साथ नहीं मिला

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाए जाने का विरोध पाकिस्तान कर रहा है और इसे अंतरराष्ट्रीय मंच पर ले जाने के कोशिश भी कर रहा है लेकिन किसी भी देश में पाकिस्तान का साथ नहीं दिया और सभी उसे नसीहतें देते नजर आए पाकिस्तान जम्मू कश्मीर के  मसले को सबसे पहले संयुक्त राष्ट्र ले गया जहां पर उसे शांति बनाए रखने की नसीहत मिले इसके बाद वह इस मसले पर अमेरिका और चीन के पास पहुंचा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा पाकिस्तान को कोई मदद नहीं मिली यहां तक कि चीन ने भी आपसे बातचीत के माध्यम से इस मसले को हल करने के लिए नसीहत दी

कश्मीर की मौजूदा स्थिति को देखते हुए लगभग सभी देशों ने पाकिस्तान को सीमा पार से आतंकवाद ना करने और शांति बनाए रखने की सलाह  दी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कश्मीर मसले को भारत का आंतरिक मामला बताया गया वही पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय समुदाय के समक्ष स्थिति को तनावपूर्ण दिखाने की कोशिश करते नजर आया कश्मीर के मामले पर अफगानिस्तान से भी पाकिस्तान को सहयोग नहीं मिला और तालिबान द्वारा कश्मीर और अफगानिस्तान के मुद्दे को जोड़ने का खासा विरोध किया गया अफगानिस्तान का कहना है कि अन्य देशों की प्रतिस्पर्धा के बीच वह फसना नहीं चलता है अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई ने पाकिस्तान से कहाअफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया को कश्मीर में अपने उद्देश्य से जोड़ना यह साबित करता है कि पाकिस्तान अफगानिस्तान को महज एक रणनीतिक उपकरण के तौर पर देखता है, मैं पाकिस्तान सरकार से कहना चाहता हूं कि वह क्षेत्र में हिंसा को अपने  हथियार के तौर पर इस्तेमाल करना बंद करें हम उम्मीद करते हैं कि जम्मू कश्मीर को लेकर मोदी सरकार का फैसला राज्य और भारत के लोगों की बेहतरीवाला साबित होगा

पाकिस्तान द्वारा, भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले सभी द्विपक्षीय व्यापार पर रोक लगा दी इसके साथसाथ सीमा पार की दो  ट्रेनी और लाहौर दिल्ली मैत्री बस सेवा को भी निलंबित कर दिया पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन  से भी कश्मीर के मुद्दे और कश्मीर के विशेष दर्जा हटाए जाने के फैसले के बाद उपजे तनाव पर फोन पर बात की लेकिन वहां भी उसे कोई विशेष मदद नहीं मिली और पाकिस्तान को शांति बनाए रखने के लिए कहा गया इस तरीके से पाकिस्तान को लगभग हर तरह से जम्मू कश्मीर के मामले  पर झटके ही मिल रहे हैं

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *