रवि बिश्नोई हो सकते हैं भारतीय टीम के लिए अगले अनिल कुंबले
खेल

रवि बिश्नोई हो सकते हैं भारतीय टीम के लिए अगले अनिल कुंबले

अंडर-19 का विश्व कप फाइनल मैच भारत और बांग्लादेश के बीच खेला गया । अंडर-19 के ज्यादातर विश्व कप फाइनल मैच एकतरफा हो जाते हैं । लेकिन रविवार को खेला गया फाइनल मैच काफी रोमांचक था । बांग्लादेश की टीम छुपा रुस्तम निकली। एक लो स्कोरिंग फाइनल में बांग्लादेश की टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए पहली बार आईसीसी का टूर्नामेंट जीता है । वहीं भारतीय टीम चार बार की चैंपियन रह चुकी है लेकिन इसके बावजूद फाइनल के मैच में बांग्लादेश की टीम से हार गई । भारतीय टीम को भले ही हार मिली लेकिन भारतीय टीम में एक ऐसे गेंदबाज दिखे जो आने वाले समय में भारतीय टीम के लिए अगले अनिल कुंबले के रूप में शामिल हो सकते हैं । इस गेंदबाज का नाम है रवि बिश्नोई ।

टॉस हारने के बाद भारतीय टीम बल्लेबाजी करने उतरी थी और भारतीय टीम के यशस्वी जयसवाल ने 88 रन की अर्धशतकीय पारी खेली और जैसे तैसे 177 रन का लक्ष्य बांग्लादेश की टीम के सामने रख सके । जवाब में बांग्लादेश की टीम की शुरुआत अच्छी रही और पहले विकेट के लिए 50 रन की साझेदारी हुई । इस टूर्नामेंट में जो प्रेशर गेंदबाज शानदार लय में थे वह भी बेकार साबित हुए । लेकिन इसी बीच भारतीय गेंदबाज स्पिनर रवि बिश्नोई ने ऐसी गेद घुमाई की भारतीयों के मन में मैच में वापसी की उम्मीद जग गई । रवि बिश्नोई के बदौलत ही भारतीय टीम बेहतर प्रदर्शन कर सकी । जहां 50 रन के स्कोर तक बांग्लादेश का कोई विकेट नहीं गिरा था वही अगले 52 रन के अंदर बांग्लादेश के 6 प्लेयर पवेलियन लौट गए थे ।

स्पिनर गेंदबाज रवि ने बेहतरीन गेंदबाजी की और विरोधी टीम पूरी तरीके से बैकफुट पर आ गई । रवि बिश्नोई की तेज स्पीड की लेग स्पिन और गुगली के सामने बांग्लादेश के खिलाड़ी बेसहाय नजर आ रहे थे । गेद टप्पा खाने के बाद कहां घूमेगी और किस रफ्तार से घूमेगी इस बात का अंदाजा लगा पाना बांग्लादेश के खिलाड़ियों के लिए बेहद मुश्किल हो रहा था । लेकिन इसी बीच बांग्लादेश के कप्तान अकबर अली और रिटायर्ड हर्ट होकर मैदान से बाहर जाने के बाद लौटे परवेज़ हसन इमाम ने दबाव हटाकर बांग्लादेश को जीत की राह पकड़ा दे । फाइनल मैच में रवि बिश्नोई ने 30 रन देकर चार विकेट लिए । यह किसी भारतीय गेंदबाज का फाइनल मैच में दूसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है । इसके पहले 2006 में फाइनल मुकाबले में पीयूष चावला ने 8 रन देकर चार विकेट लिए थे ।

रवि बिश्नोई इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा कुल 17 विकेट लिए हैं । रवि बिश्नोई का जन्म राजस्थान के जोधपुर जिले में हुआ था और बचपन में बहुत ज्यादा सुविधाएं भी नहीं मिली थी । रवि के पिता ने भी उन्हें क्रिकेट छोड़ कर पढ़ाई पर ध्यान देने के लिए कहा था । लेकिन अपने चार-पांच दोस्तों के साथ मिलकर रवि ने अपनी अकादमी की शुरू की । खेती की जमीन पर क्रिकेट का मैदान तैयार हुआ । उन्होंने खुद पिच तैयार की, रोलर चलाया ,मैदान पर घास उगाया । रवि बिश्नोई बचपन से ही शेन वार्न को अपना आदर्श मानते हैं । रवि बिश्नोई की गेंदबाजी का अंदाज काफी कुछ अफगानी राशिद खान से मिलता-जुलता है । इस साल के आईपीएल के लिए नीलामी में रवि बिश्नोई को किंग्स इलेवन पंजाब ने खरीदा है । किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेलते हुए रवि बिश्नोई अनिल कुंबले के साथ काम करेंगे जिसे लेकर वे बेहद उत्साहित हैं । उन्होंने कहा कि कुंबले से उन्हें काफी कुछ सीखने को मिलेगा । मालूम होगी किंग्स इलेवन पंजाब के कोच अनिल कुंबले है ।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *