17.1 C
Delhi
Tuesday, January 26, 2021

आइये जाने एरोमाथेरेपी के फायदे और नुकसान के बारे में

Must read

National Film Award लेते समय अभिनेत्री Kangana Ranaut के पास महंगे कपड़े खरीदने के लिए पैसे न होने पर उन्होंने खुद से डिजाइन की...

बॉलीवुड में अभिनेत्री Kangana Ranaut अपनी बेबाक राय के लिए जानी जाती हैं। अभिनेत्री कंगना रनौत को फिल्म "फैशन" के लिए national award से...

आइए जानते हैं भारतीय संविधान की मूल प्रति क्यों रखी गई है गैस चेंबर में

26 जनवरी 2021 को भारत अपना 72 वाँ Republic Day ( गणतंत्र दिवस ) मनाने जा रहा है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत...

खांसी की समस्या को दूर करने के लिए इस तरह भाप में संतरा पका कर खाएं

खांसी की समस्या सर्दी के मौसम में बच्चे, बूढ़े, बड़े सब को परेशान करती है। लगातार खांसी की वजह से गले में दर्द और...

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

एरोमाथेरेपी एक वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति है जो विभिन्न सुगंधों के सुगंधित तेलों के साथ शारीरिक और मानसिक बीमारियों का इलाज करती है।  एरोमाथेरेपी सुगंधों का विज्ञान है जिसमें कहा गया है कि बहुत सी गंध बीमारियों और विभिन्न समस्याओं से पीड़ित व्यक्ति को राहत पहुंचा सकती हैं।

हम सभी खुशबू के प्रभाव को समझते हैं। भोजन की उत्कृष्ट सुगंध, फूलों का गुलदस्ता हमारे दिल और दिमाग को खुश करता है, लेकिन एक गंध ऐसी भी होती है जो हमारे मस्तिष्क को घृणा, भ्रम से भर देती है।

हम एरोमाथेरेपी में उपयोग किए जाने वाले कई सुगंधों से परिचित हैं, लेकिन ज्यादातर लोग हमारे दिमाग पर इसके विशेष प्रभावों से अनजान हैं।

इस तरह एरोमाथेरेपी काम करती है : –

एरोमाथेरेपी में, सुगंध का उपयोग कई तरीकों से किया जाता है।  एक उदाहरण के रूप में खुशबू के लिए गुलाब की खुशबी के तकिए,  गुलाब के इत्र, तेल, अगरबत्ती का प्रयोग, गुलाब जल से स्नान भी कर सकते है।  गुलाब के तेल को किसी हल्की खुशबू वाले तेल के साथ मिलाकर मालिश कर सकते हैं। आइये जाने कुछ विशेष खुशबू और उसके लाभ के बारे में

गुलाब का तेल :-

गुलाब की खुशबू (रोज एरोमा) से पित्त दोष खत्म हो जाता है।  गुलाब की महक से चिंता, तनाव, अवसाद, पाचन संबंधी समस्याओं में राहत मिलती है।  इसके अलावा, गुलाब अस्थमा जैसी रक्त परिसंचरण, हृदय की समस्या और सांस की बीमारी में आराम देता है।

नींबू का तेल :

नींबू की सुगंध मस्तिष्क की अशांति को शांत करके मानसिक राहत प्रदान करती है।  इसके अलावा, नींबू की गंध का उपयोग ध्यान केंद्रित करने, गठिया के इलाज के लिए, मुँहासे और पाचन समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है।  नींबू की महक सिर दर्द को खत्म करती है, और यह खराब मूड को भी सुधारती है।  नींबू की खुशबू प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करती है।

चंदन का तेल :

चंदन के सुगंध वाले उत्पादों का उपयोग करने से मानसिक शांति मिलती है।  चंदन की महक नर्व सिस्टम को शांत करती है।  इसकी खुशबू से यूरिन के रोग, सीने में दर्द, तनाव में राहत मिलती है।  चंदन के तेल की मालिश करने से सूजन कम होती है और त्वचा का सूखापन दूर होता है।  चंदन की गंध का पूजा, ध्यान और योग में सबसे अधिक महत्व है।  इसकी खुशबू एक आध्यात्मिक मूड बनाती है।

नीलगिरी तेल :-

इसकी खुशबू और इसके उपयोग को ज्यादातर लोग जानते हैं।  नीलगिरी की सुगंध सर्दी, कफ की समस्या, अस्थमा, अवरुद्ध नाक और छाती से राहत दिलाती है।  इसका उपयोग ज्यादातर बाल्स और मलहम में किया जाता है।  नीलगिरी की खुशबू सिरदर्द, दांत दर्द, माइग्रेन और मानसिक थकान से राहत दिलाती है।

लैवेंडर ऑयल :-

लैवेंडर की सुगंध एरोमाथेरेपी में महत्वपूर्ण है।  यह उचित नींद, भ्रम, बेचैनी, मासिक धर्म में दर्द, सांस की समस्याओं (अस्थमा), तनाव, सिरदर्द जैसी कई बीमारियों के उपचार में उपयोगी है।  त्वचा पर लैवेंडर का तेल लगाने से सनबर्न, एक्जिमा, मुँहासे, चकत्ते ठीक हो जाते हैं।

एरोमाथेरेपी सुगंधों का विज्ञान है
एरोमाथेरेपी सुगंधों का विज्ञान है

अधिकांश आवश्यक तेलों को पौधे के अर्क से प्राप्त किया जाता है और उपयोग करने के लिए सुरक्षित माना जाता है, लेकिन कुछ लोगों को इन प्राकृतिक तेलों के लिए प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो सकती है।  आपको बता दें कि अगर आप भी एरोमाथेरेपी लेने की सोच रहे हैं, तो इससे पहले इसके दुष्प्रभावों के बारे में जान लें।

 संवेदनशील त्वचा :-

कुछ तेल त्वचा और बालों के लिए उपयुक्त माना जाता है, क्योंकि यह प्राकृतिक और सुरक्षित है, लेकिन फिर भी कुछ लोगों में एलर्जी हो सकती है।  इससे त्वचा में जलन, सूजन और लालिमा हो सकती है।  नाजुक त्वचा वाले लोगों को पहले एक पैच परीक्षा करने की सिफारिश की जाती है।

गर्भवती महिलाओं को अरोमाथेरेपी से बचना चाहिए :-

गर्भवती महिलाओं को एरोमाथेरेपी से बचने की सलाह दी जाती है।  अरोमाथेरेपी पहली तिमाही में विकासशील भ्रूण के लिए खतरा पैदा कर सकती है।  दूसरी ओर, स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी इससे बचना चाहिए।  ऐसी स्थिति में, महिलाओं को आपके डॉक्टर की अनुमति के बिना एरोमाथेरेपी की ओर नहीं लेनी चाहिए।

हार्मोनल असंतुलन :- 

हालांकि एरोमाथेरेपी काफी लाभकारी साबित होती है, कुछ तेल हार्मोनल असंतुलन के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि कई तेल एस्ट्रोजेन की तरह व्यवहार करते हैं और एण्ड्रोजन के प्रभाव को कम करते हैं।  इसलिए, आवश्यक है कि एरोमाथेरेपी करने से पहले किसी विशेषज्ञ की सलाह लें।

यह भी पढ़ें :  गुर्दे की पथरी निकालने के इन आसान घरेलू नुस्खे को जाने

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

National Film Award लेते समय अभिनेत्री Kangana Ranaut के पास महंगे कपड़े खरीदने के लिए पैसे न होने पर उन्होंने खुद से डिजाइन की...

बॉलीवुड में अभिनेत्री Kangana Ranaut अपनी बेबाक राय के लिए जानी जाती हैं। अभिनेत्री कंगना रनौत को फिल्म "फैशन" के लिए national award से...

आइए जानते हैं भारतीय संविधान की मूल प्रति क्यों रखी गई है गैस चेंबर में

26 जनवरी 2021 को भारत अपना 72 वाँ Republic Day ( गणतंत्र दिवस ) मनाने जा रहा है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत...

खांसी की समस्या को दूर करने के लिए इस तरह भाप में संतरा पका कर खाएं

खांसी की समस्या सर्दी के मौसम में बच्चे, बूढ़े, बड़े सब को परेशान करती है। लगातार खांसी की वजह से गले में दर्द और...

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

आइए जानते हैं सड़कों पर क्यों बनाई जाती है सफेद और पीले रंग की लाइन

हम सब ज्यादातर सड़क मार्ग से ही सफर करते हैं इसलिए ज्यादातर लोगों ने सड़क पर सफेद और पीले रंग की पार्टियों को देखा...