कोरोना वायरस से प्रभावित देश के यात्रा से लौटे व्यक्ति कब और कैसे करे खुद को आइसोलेट

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण की वजह से इसे महामारी करार दे दिया गया है, इसको ले कर इससे बचने के लिए हर कोई चिंतित नज़र आ रहा है । कोरोना वायरस का अभी कोई सटीक इलाज नही है, ऐसे में बचाब ही एक सुरक्षित तरीका है बचने का । जब किसी भी व्यक्ति में इसका लक्षण नजर आए इस फिर कोई व्यक्ति कोरोना वायरस से प्रभावित देश से लौटा हो तो बेहतर यही है कि वो एतिहात बरते खुद को समाज और अपनों से अलग कर ले और इस खतरनाक वायरस से खुद की और दूसरों की जान की रक्षा करे ।

दुनिया भर के डॉक्टर लोगो को इस वायरस से बचने के लिए एतिहात बरतने की सलाह दे रहे है । अगर कोई भी व्यक्ति प्रभावित देश से वापस लौटा है तो बेहतर यही है कि वह अपने घर में रहे और लोगों के संपर्क में ना आए, बहुत ज्यादा जरूरत ना हो तो वहां अपने घर में रहे और लोगों से न मिले जुले और उनसे एक दूरी बनाए रखें ।

हालांकि आइसोलेशन में फोन एक बेहतरीन माध्यम है जिसके जरिए प्रभावित इंसान अपने परिवार वालों और दोस्तों से संपर्क बनाए रह सकता है । यह एक सुरक्षित तरीका है क्योंकि इससे संक्रमित व्यक्ति किसी अन्य को संक्रमित नहीं कर सकता और जब किसी भी प्रकार की मदद की जरूरत हो या किसी खाद पदार्थ की आवश्यकता हो तो उसे दरवाजे के बाहर रखने के लिए कहे ।

घर के अंदर खुद को एक कमरे में बंद करके रखे और उसका दरवाजा हमेशा बंद रखें । किसी प्रभावित देश की यात्रा करने वाला व्यक्ति कोशिश करें कि उसके द्वारा इस्तेमाल किया गया कोई भी सामान किसी परिवार के अन्य सदस्य द्वारा इस्तेमाल न किया जाए ।

वायरस से संक्रमित व्यक्ति अपने हाथ को बार-बार साबुन आने और अल्कोहल युक्त पदार्थ से धुले । यह तब तक करनी होगी जब तक कि उसका कोरोना वायरस संक्रमण की जांच की रिपोर्ट नेगेटिव न आ जाए । उस समय तक उस व्यक्ति को बार बार हाथ धोने चाहिए तथा खुद को पूरी तरीके से आइसोलेशन में रखना चाहिए ।

संक्रमित व्यक्ति को अपने कपड़े की धुलाई 60 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा के तापमान के पानी में ही साफ करना चाहिए जिससे संक्रमण नष्ट हो जाए । इस दौरान अपने पालतू जानवर से दूरी बनाकर रखें और अगर किसी भी वजह से अपने पालतू जानवर को छूते हैं तो छूने से पहले तथा उसके बाद हाँथ अच्छी तरीके से धूल ले । कोशिश करें कि अपना खाना खुद बनाएं और बाथरूम वगैरह की सफाई पर विशेष ध्यान दें ।

संक्रमित व्यक्ति द्वारा इस्तेमाल की हुई चीजों को प्लास्टिक के कचरा बैग में करके उसे अच्छी तरीके से बांधे और जब तक टेस्ट रिपोर्ट न आ जाए तब तक कचरे को इधर-उधर न फेके । टेस्ट की आने के बाद डॉक्टर के सलाह के अनुसार है कचरे का निपटारा करें । कोरोना वायरस संक्रमण के दौरान खाँसने छींकने समय हमेशा टिशु पेपर का इस्तेमाल करें और उसे प्लास्टिक बैग में इकट्ठा कर के रखे ।

इसके बाद साबुन से अच्छी तरीके से हाँथ घुले और हमेशा मुंह पर मास्क लगाए रखें । मालूम हो कि कोरोना वायरस में सांस लेने में दिक्कत होती है तथा खांसी और जुखाम जैसे लक्षण दिखाई देते हैं । विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अब तक 147 देश में कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति पाए गए है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *