कोरोना वायरस के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था में भी दिखेगी मंदी !

भारत की केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर शशीकांत दास ने कहा है कि बढ़ते कोरोना वायरस के मद्देनजर भारतीय अर्थव्यवस्था में भी इसकी वजह से आर्थिक मंदी देखने को मिल सकती है । हालांकि यह कुछ क्षेत्रों में ही देखने को मिलेगी और भारत इसके लिए पूरी तरीके से सचेत है और आरबीआई आने वाले समय मे नीतिगत दरों में इसके लिए कटौती कर सकती हैं, जिससे लोगों के पास नकदी की मात्रा बढे और लोग खरीद दरी करे ।

इसी बीच संयुक्त राष्ट्र ने भी एक कॉन्फ्रेंस जोकि कॉन्फ्रेंस ऑफ ट्रेड एंड डेवलपमेंट के नाम से हुआ, उसमें कहा है कि कोरोना वायरस से विश्व की 15 बड़ी अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही हैं जिसमें एक बार भारत भी है । चीन में उत्पन में गिरावट की वजह से भारत में भी इसका असर देखने को मिलने लगा है ।

उन्होंने कहा है कि कोरोना वायरस की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था को करीब 35 करोड़ डॉलर का नुकसान पहुंच सकता है । मालूम होगी भारत सरकार ने 15 अप्रैल तक के लिए सभी देशों के वीजा को पर रोक लगा दी है । क्षेत्र से भी भारत को अच्छी कमाई होती है और इसका असर अर्थव्यवस्था पर देखने को मिलेगा ।

इंटरनेशनल ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन किया है कि यात्रियों की आवाजाही की वजह से करीब 63 हजार डॉलर का नुकसान झेलना पड़ सकता है, साथ ही ऑटोमोबाइल सेक्टर में भी नुकसान देखने को मिल सकता है क्योंकि भारत अपने कच्चे माल के लिए अन्य देशों पर निर्भर है । कल पुर्जो में कमी और आपूर्ति न हो पाने की वजह से ऑटो उद्योग पर भी इसका असर देखने को मिलेगा ।

यहां बेरोजगारी भी देखने को मिल सकती है । विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अंटार्कटिक को छोड़ दिया जाए तो पूरी दुनिया में कोरोना वायरस फैल चुका है । चीन के बाद सबसे ज्यादा कोरोना वायरस से मरने वालों की खबर इटली से आ रही हैं । भारत में भी कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है ।

भारत सरकार इसके लिए सतर्क हो गई है और लोगों को जागरूकता करने के साथ ही शॉपिंग मॉल, सिनेमा हॉल जैसे भीड़ वाली जगहों को बंद रखने का आदेश जारी कर दिया है । कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर भारत के पर्यटन उद्योग पर पड़ रहा है और यह बुरी तरीके से ठप हो चुका है ।

मालूम हो कि चीन दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में आता है लेकिन कोरोना वायरस की वजह से वहां की अर्थव्यवस्था बहुत बुरी तरीके से प्रभावित हुई है । भारत कुछ मामलों में चीन पर निर्भर है ऐसे में इसका असर भारतीय अर्थव्यवस्था में देखने को मिलना निश्चित है । एक अनुमान के मुताबिक वैश्विक अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस की वजह से 2.7 ट्रिलियन डॉलर का नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है ।

रिजर्व बैंक जल्द ही इससे निपटने के लिए नीतिगत दरों में कटोती जैसे कदम उठाएगी लेकिन इस बात की संभावना जताई जा रहा कि यहाँ मंदी देखने को मिल सकती है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *