अहमदाबाद में लगा कर्फ्यू, क्या दिल्ली महाराष्ट्र मध्य प्रदेश में फिर से हो सकता है लॉकडाउन

एक सर्वे के अनुसार 61 फीसदी लोग कोरोना वायरस की वैक्सीन आ जाने पर टीका नहीं लगाएंगे

एक सर्वे के अनुसार 61 फीसदी लोग कोरोना वायरस की वैक्सीन आ जाने पर टीका नहीं लगाएंगे

कोरोना वायरस महामारी का कहर थमने का नाम नही ले रही है। त्योहारी सीजन के बाद एक बार फिर से दिल्ली और महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में कोरोना वायरस के मामले बढ़ गए हैं। ऐसे भी इस बात की संभावना बढ़ रही है कि यहां पर फिर से पाबंदियां लगाई जा सकती है।

बता दें कि मार्च में लॉक डाउन लगाने के बाद धीरे-धीरे उसने छूट देकर पूरी तरीके से अनब्लॉक कर दिया गया था। लेकिन दिवाली के बाद बढ़ते मामलों के चलते फिर से पाबंदियां लगाने की नौबत बनती दिख रही है।

बता दें कि गुजरात की राजधानी अहमदाबाद में शुक्रवार से सोमवार तक के लिए 57 घंटे का कर्फ्यू लगाए जाने की घोषणा कर दी गई है। वही मध्य प्रदेश के गृहमंत्री ने भी राज्य में कोरोना के बढ़ते मामले के चलते लॉक डाउन लगाने के संकेत दिए है।

बता देंगे पिछले 24 घंटे के अंदर कोरोना वायरस के 45000 से भी ज्यादा नए मामले देश भर मे सामने आए हैं। अगर बात दिल्ली की करें तो गुरुवार को दिल्ली में सबसे ज्यादा 7000 के लगभग नए मामले दर्ज किए गए हैं और 90 लोगों की कोरोना वायरस की वजह से मौत हो गई है। वहाँ कुछ-कुछ स्थिति एक महीने पहले जैसी बन रही है।

यह भी पढ़ें : किसी वैक्सीन के असरदार होने का क्या मतलब होता है? किन तीन कंपनियों की वैक्सीन है ज्यादा असरदार?

बता दे एक महीने पहले दिल्ली में हर दिन लगभग एक हजार मामले सामने आ रहे थे और मरने वालों की संख्या करीब 30 तक पहुंच गई थी। लेकिन फिर से कोरोना वायरस के मामले में उछाल देखा जा रहा है, जिससे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत केंद्र सरकार भी चिंता मे पड़ गई है। दिल्ली सरकार ने शादी मे केवल 50 लोगों को ही शामिल होने की अनुमति देने की घोषणा की है।

वही जो लोग मास्क नही लगाए रहेंगे उन पर ₹2000 का जुर्माना लगाने का आदेश दिया है। दिल्ली के बड़े बाजारों को बंद करने के लिए केंद्र सरकार के पास प्रस्ताव भी भेज दिया गया है। यदि स्थिति में सुधार नही होता है तब लॉक डाउन करना ही एकमात्र विकल्प बचेगा। हालांकि दिल्ली सरकार का कहना है कि इस पर अभी कोई विचार नही किया गया है।

वही महाराष्ट्र में गुरुवार को कोरोना वायरस के लगभग 6000 मामले सामने आए और 154 लोगों की मौत कोरोना वायरस से हुई है। एक बार फिर से महाराष्ट्र में मामले बढ़ने लगी है। ऐसे में बीएमसी ने सभी स्कूलों को 31 दिसंबर तक बंद रखने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़ें : शोध का दावा कोरोना वायरस से प्रभावित फेफड़े 12 हफ्ते के अंदर खुद ही हो जाते हैं रिकवर

मध्य प्रदेश में पिछले 24 घंटों में 1300 से अधिक मामले सामने आए हैं, सबसे ज्यादा मामले भोपाल और इंदौर जैसे शहरों से आए हैं। ये मामले दीवाली के बाद सामने आए हैं।

ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों की एक आपात बैठक बुलाई और जानकारी ली कि किन इलाकों से ज्यादा मामले आ रहे हैं। इन इलाकों के लिए राज्य सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है। मध्य प्रदेश के गृहमंत्री ने कहा है कि लोगों को सावधान रहने की जरूरत है। सरकार इस पर लगातार निगरानी कर रही हैं।

गुजरात की राजधानी अहमदाबाद कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट बन कर उभर रहा है। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते अहमदाबाद में कर्फ्यू लगाने की घोषणा कर दी गई है। कर्फ्यू शुक्रवार रात 9 बजे से शुरू होकर सोमवार सुबह 6 बजे तक के लिए लगाया गया है।