17.1 C
Delhi
Wednesday, January 27, 2021

जमीन धंसने से भारत समेत दुनिया के कई देशों के लोगों पर मंडरा रहा है खतरा

Must read

National Film Award लेते समय अभिनेत्री Kangana Ranaut के पास महंगे कपड़े खरीदने के लिए पैसे न होने पर उन्होंने खुद से डिजाइन की...

बॉलीवुड में अभिनेत्री Kangana Ranaut अपनी बेबाक राय के लिए जानी जाती हैं। अभिनेत्री कंगना रनौत को फिल्म "फैशन" के लिए national award से...

आइए जानते हैं भारतीय संविधान की मूल प्रति क्यों रखी गई है गैस चेंबर में

26 जनवरी 2021 को भारत अपना 72 वाँ Republic Day ( गणतंत्र दिवस ) मनाने जा रहा है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत...

खांसी की समस्या को दूर करने के लिए इस तरह भाप में संतरा पका कर खाएं

खांसी की समस्या सर्दी के मौसम में बच्चे, बूढ़े, बड़े सब को परेशान करती है। लगातार खांसी की वजह से गले में दर्द और...

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

पृथ्वी पर मानव का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है, जिसका खामियाजा मानव को ही भुगतना पड़ेगा। अभी हाल मे ही एक नए शोध से यह बात सामने आई है कि जिस तेजी से इंसान भूजल का दोहन कर रहा है उसकी वजह से धरती की सतह घंसने लगी है, जिसका परिणाम यह होगा कि दुनिया के करोड़ों लोग को क्षति होगी।

एक अनुमान के मुताबिक जमीन धंसने से दुनिया के 63.5 करोड़ लोगों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। वही दूसरी तरफ समुद्र जलस्तर भी बढ़ता जा रहा है, ऐसे में जो लोग तटवर्ती इलाकों में रहते हैं वहां पर बढ़ते समुद्र के जलस्तर से बाढ़ का खतरा दिन-ब-दिन बढ़ रहा है।

अभी हाल में ही जनरल साइंस में शोध प्रकाशित किया गया है, जिसमें कहा गया है कि 2040 तक दुनिया की 29 फीसदी की जनसंख्या पर इसका असर देखने को मिलेगा, जिसमें भारत, चीन, ईरान, इंडोनेशिया के लोग शामिल होंगे। इसका असर वैश्विक जीडीपी पर भी देखने को मिलेगा।

यह भी पढ़ें : वैज्ञानिकों के अनुसार प्लास्टिक के कंटेनर में रखा गया गंगाजल भी हो जाता है जहरीला

एक अनुमान के मुताबिक तेजी से बढ़ती जनसंख्या के भरण पोषण के लिये कृषि पर दबाव बढ़ रहा है, जिससे इंसान की जरूरतों को पूरा करने के लिए भूजल का भी तेजी से दोहन हो रहा है और इसका असर धरती की सतह पर पढ़ रहा है।

शोध के अनुसार बढ़ते भूजल के दोहन से धरती की सतह को नुकसान हो रहा है। धरती के धंसने से दुनिया के करीब 63.5 करोड लोग के प्रभावित होने का अनुमान लगाया गया है, जिसमें सबसे ज्यादा असर एशिया में ही देखने को मिलेगा।

जमीन के घंसने की वजह :-

जनरल साइंस में छपे एक दूसरे शोध के अनुसार 34 देशों में 200 से ज्यादा जगहों पर भू जल का अनियंत्रित दोहन किया जा रहा है, जिसके वजह से जमीन धंसने के सबूत मिले हैं।

इस शोध के प्रमुख शोधकर्ता गेरार्डो हेरेरा गार्सिया तो कहना है कि जिस क्षेत्र की आबादी बहुत अधिक है, वहां पर सूखे की समस्या देखने को मिल रही है, इसके अलावा उस क्षेत्र में सिंचाई के लिए बढ़ते प्रयोग से भूजल पर दबाव के चलते जरूरत से ज्यादा भूजल का दोहन किया जा रहा है, जिससे सतह घंसने लग रही है।

shrinking of land

दुनिया की आबादी में तेजी से वृद्धि हो रही है, जिसका करण संसाधनों पर दबाव दिन-ब-दिन बढ़ता चल रहा है, और स्थितियां बिगड़ रही है।

वहीं भूजल दोहन के संबंध में नियमों की कमी देखी गई है और बढ़ती आबादी समस्या को और भी ज्यादा बढ़ाने का काम कर रही है। जलवायु परिवर्तन के कारण समस्या और भी ज्यादा विकराल रूप से सामने आ रही है।

यह भी पढ़ें : कुदरत की लालटेन कहे जाने वाले जुगनू, जलवायु परिवर्तन के चलते बुझने के कगार पर

जनरल साइंस में एक अन्य शोध में छपा है, ईरान मे जिस तेजी से भूजल का दोहन हो रहा है उसके चलते तेहरान में कई जगह पर जमीन 25 सेंटीमीटर प्रति वर्ष के घंसने हुए पाई गई है।

पिछले 10 वर्ष में इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता भी जमीन करीब 2.5 मीटर तक डूब गई है और कई जगह पर 25 सेंटीमीटर की दर से जमीन धंसने की घटना देखी गई है।

वैज्ञानिक इस समस्या को समझने के लिए स्थानीय और जनसांख्यिकी विश्लेषण के आधार पर मॉडल विकसित कर रहे हैं, जिसकी सहायता से इंसानी कार्यकलापों की वजह से आने वाली बाढ़ और भूजल की कमी जैसी समस्या वाले क्षेत्रों की पहचान की जा सके। खास करके उन जगहों की जहां पर जमीन घंसने की संभावना अधिक है और संवेदनशील इलाके हैं।

शोधकर्ताओं का कहना है कि जमीन घंसने की समस्या से निपटने के लिए प्रभावी नीतियां बनाने की जरूरत है, लेकिन दुनिया भर के ज्यादातर देशों में इसके संबंध में कोई भी नीति नही बनाई गई है। जमीन धंसने वाले क्षेत्रों को चिन्हित करके उनकी निगरानी के जरिए होने वाले खतरे को सीमित किया जा सकता है।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

National Film Award लेते समय अभिनेत्री Kangana Ranaut के पास महंगे कपड़े खरीदने के लिए पैसे न होने पर उन्होंने खुद से डिजाइन की...

बॉलीवुड में अभिनेत्री Kangana Ranaut अपनी बेबाक राय के लिए जानी जाती हैं। अभिनेत्री कंगना रनौत को फिल्म "फैशन" के लिए national award से...

आइए जानते हैं भारतीय संविधान की मूल प्रति क्यों रखी गई है गैस चेंबर में

26 जनवरी 2021 को भारत अपना 72 वाँ Republic Day ( गणतंत्र दिवस ) मनाने जा रहा है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत...

खांसी की समस्या को दूर करने के लिए इस तरह भाप में संतरा पका कर खाएं

खांसी की समस्या सर्दी के मौसम में बच्चे, बूढ़े, बड़े सब को परेशान करती है। लगातार खांसी की वजह से गले में दर्द और...

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

आइए जानते हैं सड़कों पर क्यों बनाई जाती है सफेद और पीले रंग की लाइन

हम सब ज्यादातर सड़क मार्ग से ही सफर करते हैं इसलिए ज्यादातर लोगों ने सड़क पर सफेद और पीले रंग की पार्टियों को देखा...