फिटनेस की सनक होना भी है इस गंभीर बीमारी का एक लक्षण

फिटनेस की सनक

फिटनेस की सनक होना भी है इस गंभीर बीमारी का एक लक्षण । आजकल लोग सोशल मीडिया का खूब इस्तेमाल करते हैं सोशल मीडिया साइट इंस्टाग्राम पर ऐसे कई इंफ्लुएंसर हैं जिनसे लाखों लोग प्रभावित होते हैं।

यह यूज़र लोगों को हेल्थ से जुड़ी टिप्स देते हैं और उन्हें एक्सरसाइज करना सिखाते हैं और लोग उन्हें देखकर उन्हीं की तरह बनने और दिखने के लिए काफी पसीना बहाते हैं और अपनी तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं ।

दरअसल इंस्टाग्राम की प्रभावशाली हस्तियो से लोग प्रभावित होकर शारीरिक कसरत के साथ ही संतुलित भोजन पर भी काफी ध्यान रहने लगते हैं। लेकिन बहुत बार होता है कि कुछ लोगों में फिटनेस की सनक सवार हो जाती है और इसके चलते कुछ लोग खुद को भूखा रखते हैं। नतीजा उन्हें काफी परेशानियां भी झेलनी पड़ती है।

दरअसल और मांसपेशियों और एप्स के लिए लोग कम कैलोरी वाला और ज्यादा वर्जिश वाला खाना खाने लगते हैं, जो कि एक तरह की बीमारी है इसे चिकित्सा भाषा में ऑर्थोरेक्सिया नर्वोसा कहा जाता है। इंस्टाग्राम पर आजकल #fitspiration काफी ज्यादा देखने को मिलता है जो कि फिटनेस के जुनूनी लोगों के प्रमुख लक्षण को दिखाता है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार ऑर्थोरेक्सिया नर्वोसा एक बीमारी है और इसका इलाज जरूरी है, नही तो ऐसे लोगों में कुपोषण और मानसिक सेहत से जुड़ी कई समस्याएं आगे चलकर पैदा हो सकती हैं।

इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति में फिटनेस का जुनून इस तरह से हो जाता है कि उसका व्यवहार बदल जाता है और धीरे-धीरे उसके जीवन की गुणवत्ता कम होने लगती है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार एक बार इस बीमारी से पीड़ित हो जाने के बाद इससे उबरने में काफी लंबा वक्त लग जाता है और कई बार तो पूरी तरीके से ठीक हो जाने के बाद भी बार-बार सेहत बिगड़ने का खतरा भी बना रहता है।

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने 2017 में अपने एक शोध में पाया कि जो लोग सोशल मीडिया साइट इंस्टाग्राम पर ज्यादा एक्टिव रहते हैं उन लोगों में ऑर्थोरेक्सिया बीमारी होने की संभावना सबसे ज्यादा रहती है। हालांकि सोशल मीडिया के दूसरे किसी प्लेटफार्म के साथ ऐसे लोगों की जोड़ी होने के कोई सबूत नहीं मिले हैं।

इस बीमारी में कम कैलोरी खाने वाले लोगों में अक्सर हल्दी और सेहतमंद खाना खाने का जुनून रहता है और ऐसे भोजन का जुनून बढ़ने के साथ इनफ्लुएंसर के फॉलोअर्स में खासतौर से यह बीमारियां देखी गई हैं।

यह भी पढ़ें : अपनी डाइट में विटामिन डी शामिल करके तनाव और थकान से राहत पाएं

कनाडा की फिटनेस इनफ्लुएंसर जेन ब्रेट भी आर्थोरेक्सिया के शिकार हो चुकी हैं और उनको इस बीमारी से उबरने में काशी वक्त लग रहा है। बता दें कि जेन को करीब 4.5 लाख लोग इंस्टाग्राम पर फॉलो करते हैं। वह सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर भी एक्टिव है।

उन्होंने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर लिखा है कि फिट रहने के लिए इसका यह मतलब नही होता है कि आप हर रोज वार्निश करें और सारा दिन सिर्फ सलाद खाकर जिंदा रहे।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार ऑर्थोरेक्सिया नर्वोसा के अलावा भी एनोरेक्सिया नर्वोसा भी फिटनेस से जुड़े एक बीमारी है जिसमें लोग भूख लगने पर भी खाना नहीं खाते हैं क्योंकि उन्हें इस बात की चिंता रहती है कि खाना खाने से उनका वजन बढ़ सकता है।

इंस्टाग्राम के इन इंफ्लुएंसर की वजह से ऑर्थोरेक्सिया और एनोरेक्सिया दोनों तरह की बीमारियां काफी लोगों में देखी जा रही है।

ज्यादातर लोग अपनी फिटनेस को दूसरे लोगों को दिखाने के चक्कर में ऐसे एक्टिविटी को अंजाम देते है। इंस्टाग्राम एक बार वर्तुअल प्लेट फॉर्म है और यहां पर जो भी तस्वीरें दिखती हैं जरूरी नही है कि वह वास्तविक हो लेकिन लोग उनसे तुलना बेहद आसानी से कर लेते हैं।

यह भी पढ़ें : दुबलेपन से छुटकारा पाने के लिए इन चीजों को करें अपने डाइट में शामिल

एक फिटनेस इंफ्लुएंसर का कहना है कि वास्तविकता से कोई भी परिचित नहीं होता है कोई भी या नही जानता है कि पर्दे के पीछे की सच्चाई क्या है, बस स्क्रीन पर शरीर की सुडौल तस्वीर दिखाई देती है।

इस तरह से फिटनेस इंफ्लुएंसर का कहना है कि आप जिन को फॉलो करते हैं जरूरी नही है कि उनकी बातों पर यकीन करके उनसे उनके जैसा बना और दिखा जाए क्योंकि वास्तव में वे शायद अपने स्वास्थ्य को लेकर कई आदतें अपनाते हैं और इसका उल्टा भी होता है।

आज कल चर्चा में मोटापे को एक गंभीर समस्या के रूप में देखा जा रहा है लेकिन अभी भी ऑर्थोरेक्सिया और फिटनेस की वजह से विषय पर चर्चा नहीं होती है। इसके पीछे वजह यह है कि ये सभी बाहर से स्वस्थ और सुडौल दिखाई देता है और उसके ऊपर इंस्टाग्राम पर अच्छा देखने का दबाव भी होता है लेकिन फिटनेस के दिखावे के चलते उसके स्वास्थ्य कई तरह की हानियां होती हैं, हो सकता है कि जो स्वस्थ देखता हो वह स्वस्थ न हो।