क्या आप जानते हैं आखिर फ्लाइट स्टाफ में महिलाओं को ही ज्यादातर क्यों रखा जाता है

फ्लाइट स्टाफ में महिलाओं को ही ज्यादातर क्यों रखा जाता है ?

फ्लाइट स्टाफ में महिलाओं को ही ज्यादातर क्यों रखा जाता है ?

आपने कभी ना कभी किसी ना किसी फ्लाइट में सफर जरूर किया होगा। अगर आप फ्लाइट में सफर नहीं किए हैं तो किसी ब्लॉक में या फिर किसी फिल्म में आपने किसी ना किसी को फ्लाइट में सफर करते जरूर देखा होगा।

इस दौरान आपने एक बार जरूर ध्यान दिया होगा की किसी मदद करने के लिए ज्यादातर फ्लाइट स्टाफ में महिलाएं ही होती हैं। यात्रियों की हर एक चीज का ध्यान रखने के लिए फ्लाइट पर एयर होस्टेस का चुनाव किया जाता है।

दुनिया भर में आज कई फ्लाइट कंपनियां है यह फ्लाइट कंपनियां फ्लाइट अटेंडेंट के तौर पर पुरुषों की तुलना में महिलाओं को वरीयता देती हैं। इतना ही नहीं फ्लाइट के अंदर काम कर रहे क्रू मेंबर्स में भी ज्यादातर महिलाएं ही होती हैं।

एक अनुमान के अनुसार मेल और फीमेल केबिन क्रू मेंबर का अनुपात 2/20 होता है। वहीं विदेशी एयरलाइंस में कई बार यह अनुपात 4/10 का देखने को मिलता है।

इन आंकड़ों से यह स्पष्ट हो जाता है कि फ्लाइट स्टाफ में ज्यादातर महिलाएं ही होती हैं। तो सवाल यह उठता है कि आखिर ऐसा क्यों होता है क्यों फ्लाइट स्टाफ में पुरुषों की तुलना में महिलाओं को वरीयता दी जाती है?

ज्यादातर लोगों का कहना है कि इसका कारण महिलाओं की खूबसूरती है लेकिन यह सच नहीं है इसके पीछे कुछ और कारण है। एक बहुत बड़ा साइकोलॉजी सत्य है कि पुरुषों की बजाय महिलाएं बातों को ज्यादा ध्यान से सुनती हैं और उन पर अमल करती हैं।

यही वजह है कि फ्लाइट में सेफ्टी गाइडलाइंस और जरूरी दिशा निर्देशों का पालन कराने के लिए फ्लाइट में महिलाओं को वरीयता दी जाती है और ज्यादातर महिला एयर होस्टेज इन सारी बातों का बखूबी पालन करती हैं।

इसके अलावा फ्लाइट स्टाफ में महिलाओं को चुनने की वजह यह भी है कि उनका करैक्टर पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा कोमल, उदार और विनम्र होता है। महिलाओं के उदार चरित्र की वजह से ही यात्रियों के मन में फ्लाइट कंपनी के प्रति एक पॉजिटिव छवि बन पाती है।

इसके अलावा एक दूसरी वजह यह है कि विमान का वजन जितना कम होगा उतनी ही ज्यादा पैसे और ईंधन की बचत होगी। निसंदेह पुरुषों की तुलना में महिलाओं का वजन कम होता है।

ऐसे में पुरुषों की तुलना में महिलाओं को वरीयता देना विमान कंपनियों के लिए फायदेमंद होता है। यही वजह है कि फ्लाइट में पतली और वजन वाली महिलाओं को वरीयता दी जाती है।

एक दूसरी वजह है कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं किसी भी चीज को मैनेज करने में ज्यादा सक्षम होती है। वह किसी भी बात को ध्यान से सुनती है और उन्हें अमल में लाती है।

फ्लाइट चलाते समय फ्लाइट ग्रुप में पुरुषों की जगह महिलाओं को इसी वजह से वरीयता दी जाती हैं। ज्यादातर कंपनियां इन्हीं वजहों से पुरुषों की बजाय फ्लाइट अटेंडेंट के रूप में महिलाओं का चुनाव करती हैं और पुरुषों का चुनाव फ्लाइट अटेंडेंट में तब किया जाता है जब ज्यादा ताकत और मेहनत का काम करना होता है।

यह भी पढ़ें :– 300 साल पहले भी आई थी कोरोना वायरस महामारी और सालों तक लोग इससे थे प्रभावित