16.7 C
Delhi
Monday, January 18, 2021

वैज्ञानिकों के अनुसार प्लास्टिक के कंटेनर में रखा गया गंगाजल भी हो जाता है जहरीला

Must read

आंखों की थकावट और सूजन को दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके

जब बहुत ज्यादा देर तक जब सोने के बाद सुबह सो कर उठे हैं तो अक्सर हमारी आंखें सूजी हुई और थकी हुई नजर...

क्या जापान जानता है Subhash Chandra Bose के गायब होने का पूरा सच!

आजादी के महानायक नेता Subhash Chandra Bose के गायब होने का सच जापान को पता है, ऐसा कहना है नेताजी के परपौत्र चंद्र कुमार...

क्यों होता है पेट का कैंसर ( Colon Cancer ) ? क्या है इसके शुरुआती लक्षण

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर कि किसी भी हिस्से मे कभी भी हो सकती है। ज्यादातर हम लोग गले का कैंसर,...

सुबह के समय नाश्ते में Chocolate खाना है Beneficial For Health

चॉकलेट खाना हम सभी को अच्छा लगता है। लेकिन कुछ लोग किसी न किसी कारण से Chocolate खाना बंद कर देते है। लेकिन चॉकलेट...

धार्मिक अनुष्ठानों में गंगाजल को बहुत पवित्र और अमृत के समान अतुल्य माना गया है। विशेषकर के हिंदू धर्म के धार्मिक अनुष्ठानों में गंगाजल बहुत महत्वपूर्ण माना गया है।

श्रद्धालु अपनी श्रद्धा के अनुसार गंगोत्री धाम से, हरिद्वार से, संगम से गंगाजल लेकर आते हैं और इसे अपने घरों में रखते है फिर समय-समय पर इसका प्रयोग लंबे समय तक करते रहते हैं।

बहुत सारे लोग गंगाजल को सहेजने के लिए प्लास्टिक के कंटेनर का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन अब शोध से खुलासा हुआ है कि प्लास्टिक के कंटेनर ओ में सहेजा जाने वाला गंगाजल सिर्फ एक साल तक ही सुरक्षित रहता है।

उसके बाद यह जहरीला हो जाता है। इस बात का खुलासा जी बी पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के रसायन वैज्ञानिकों की जांच द्वारा हुआ है।

यह भी पढ़ें : चाँद की सतह पर पानी की संभावना

जी बी पंत विश्वविद्यालय में रसायन विज्ञान के वरिष्ठ अध्यापक डॉ एन जी एच के अनुसार प्लास्टिक की आयु बेहद कम समय की होती है एक समय बाद इसमे विघटन होना सुरु हो जाता है ।

क्योकि  प्लास्टिक के कंटेनर में रखने से यह वातावरण में विभिन्न अभिक्रिया के माध्यम से संरचनात्मक परिवर्तन कर लेता है। जल प्रबंधन में उपयोग होने वाले प्लास्टिक के कंटेनर में यह विघटन श्वेत प्रदूषण के स्तर को बढ़ा रहा है।

Gangajal

जिससे निकलने वाले रसायन मृदा मनुष्य और जानवरों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इससे श्वेत प्रदूषण की स्तर बढ रहा है। इससे मिट्टी में हानिकारक घटक मिल के मिट्टी को प्रदूषित कर देते है ऐसे में प्लास्टिक के कंटेनर में सहेजे गए गंगाजल  मनुष्य की पाचन तंत्र को कमजोर करने के साथ ही त्वचा संबंधी बीमारियाँ भी उत्पन्न कर देता हैं।

प्लास्टिक के कंटेनर में रखे गए पानी के सेवन से कमजोर याददाश्त, चिड़चिड़ापन जैसी बीमारियों के होने की संभावनाएं बढ़ जाती है। कुछ मामले तो ऐसे भी गए है इसमे इंसान को अपनी सुधबुध तक नही रहती है वह मानसिक रूप से विक्षिप्त हो जाता है।

इसलिए गंगाजल को प्लास्टिक के कंटेनर के बजाय तांबे, कांच, स्टीलया चीनी मिट्टी के बर्तन में रख कर संरक्षित करना ज्यादा बेहतर होता है।

ज्यादातर पानी को रखने के लिए बनाए गए कंटेनर को बनाने में पॉली प्रोपेलीन, पॉली कार्बोनेट, मिट्टी, टेल्क, कार्बनिक रंग, पीवीसी जैसे घटकों से बनाते है।

ये अजैव विघटीय बहुलक होते है। इसमे प्रयोग होने वाले जय5 बहुलक पेट्रोकेमिकल आधारित होने के कारण वातावरण में प्रदूषण भी उत्त्पन्न करते है।

यह भी पढ़ें : कुदरत की लालटेन कहे जाने वाले जुगनू, जलवायु परिवर्तन के चलते बुझने के कगार पर

शोध में पाया गया है कि लगभग एक साल के बाद प्लास्टिक के बने कंटेनर, फिलर, कार्बनिक रंग, फोटो स्लेबलाइजर और वीआक्सीकारक रसायनों का क्षरण शुरू हो जाता है और यही वजह है कि प्लास्टिक के कंटेनर में रखा गया गंगाजल लगभग एक साल बाद जहरीला बनने लगता है।

कई बार यह भी देखने को मिला है कि प्लास्टिक के कंटेनर में रखा गया गंगाजल लगभग एक साल बाद पीला पड़ने लगे जाता है यह प्लास्टिक के क्षरण की वजह से ही होता है।

इस लिए यदि गंगाजल या इस तरह के किसी भी चीज को प्लास्टिक के कंटेनर में ज्यादा समय तक के लिए कभी नही रखना चाहिए। प्लास्टिक के बजाय कांच या चीनी मिट्टी का बर्तन के बर्तन का प्रयोग करना ज्यादा बेहतर होता है।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

आंखों की थकावट और सूजन को दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके

जब बहुत ज्यादा देर तक जब सोने के बाद सुबह सो कर उठे हैं तो अक्सर हमारी आंखें सूजी हुई और थकी हुई नजर...

क्या जापान जानता है Subhash Chandra Bose के गायब होने का पूरा सच!

आजादी के महानायक नेता Subhash Chandra Bose के गायब होने का सच जापान को पता है, ऐसा कहना है नेताजी के परपौत्र चंद्र कुमार...

क्यों होता है पेट का कैंसर ( Colon Cancer ) ? क्या है इसके शुरुआती लक्षण

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर कि किसी भी हिस्से मे कभी भी हो सकती है। ज्यादातर हम लोग गले का कैंसर,...

सुबह के समय नाश्ते में Chocolate खाना है Beneficial For Health

चॉकलेट खाना हम सभी को अच्छा लगता है। लेकिन कुछ लोग किसी न किसी कारण से Chocolate खाना बंद कर देते है। लेकिन चॉकलेट...

Food Security में सबसे बड़ा खतरा बन रहा बढ़ता हुआ ऊसर क्षेत्र

हमारे देश में जिस तेजी से ऊसर क्षेत्र बढ़ा रहा है, यह खेती के साथ-साथ Food Security के लिए भी बड़ा संकट उत्पन्न कर...