14 C
Delhi
Sunday, January 17, 2021

गर्मियों में पाचन में सुधार के लिए अपनाये ये सरल तरीके

Must read

क्यों होता है पेट का कैंसर ( Colon Cancer ) ? क्या है इसके शुरुआती लक्षण

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर कि किसी भी हिस्से मे कभी भी हो सकती है। ज्यादातर हम लोग गले का कैंसर,...

सुबह के समय नाश्ते में Chocolate खाना है Beneficial For Health

चॉकलेट खाना हम सभी को अच्छा लगता है। लेकिन कुछ लोग किसी न किसी कारण से Chocolate खाना बंद कर देते है। लेकिन चॉकलेट...

Food Security में सबसे बड़ा खतरा बन रहा बढ़ता हुआ ऊसर क्षेत्र

हमारे देश में जिस तेजी से ऊसर क्षेत्र बढ़ा रहा है, यह खेती के साथ-साथ Food Security के लिए भी बड़ा संकट उत्पन्न कर...

आइये जाने क्या है बायो बबल (Bio Bubble) का घेरा जिससे खिलाड़ी रहेंगे सुरक्षित

कोरोना वायरस महामारी चीन से शुरू होकर पूरी दुनिया को दहशत में डाले है। मार्च से इसका प्रकोप बढ़ने लगा और यह लगातार वक्त...

गर्मियों में पाचन से जुड़ी समस्याएं बढ़ जाती है। बढ़ती गर्मी हमारे पाचन और प्रतिरक्षा को प्रभावित करने लगती है। गर्मी के महीनों में कुछ सामान्य पाचन या पेट से संबंधी समस्याओं मे कब्ज, गैस्ट्रोएन्टेरिटिस, नाराज़गी,  चिड़चिड़ा आंत सिंड्रोम, डीहाइड्रेशन, फ़ूड पॉइजनिंग और भूख में कमी शामिल है।

पेट में ऐंठन, दस्त, उल्टी और पेट फूलना जैसे लक्षणों के बाद लोग थोड़ा सतर्कता बरतने लगते है।  गर्मियों में हमारे पाचन ठीक रहने के लिए भूख और कुछ सावधाना बरतना ही पर्याप्त होता है। पर्याप्त मात्रा में तरल पेय पदार्थ लेकर अच्छी तरह से बॉडी को हाइड्रेटेड रख सकते है।

गर्मियों में  हमें छोटे अंतराल पर भोजन के छोटे हिस्से का सेवन करना चाहिए और मसालेदार तले हुए एसिडिक भोजन से बचना चाहिए।  यह सब हमें हमारे पाचन में सुधार करने में मदद करेगा।

गर्मियों में पाचन में सुधार के कुछ तरीके :-

शरीर को हाइड्रेट रखे :-

हमारे शरीर की मूलभूत आवश्यकता पानी है। पानी की सही मात्रा आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में आपकी मदद करती है।

गर्मियों में हम बहुत पसीना बहाते हैं, इस तरह से गर्मियों में शरीर को अधिक पानी की जरूरत  होती है। इसलिए, पानी की कमी से बचने के लिए गर्मियों में अधिक पानी पीना आवश्यक है।

आमतौर पर, रोजाना 6 से 8 गिलास पानी पर्याप्त होता है, लेकिन गर्मियों में आपको अपनी भूख कम लगती है और प्यास ज्यादा इस लिए गर्मियों में 12 से 15 गिलास तक पानी पिये, जिसमें पानी, जूस, चाय (ग्रीन टी का इस्तेमाल डेड स्किन सेल्स को हटाने के लिए किया जा सकता है) छाछ,  सूप, आदि का प्रयोग किया जा है।

यह त्वचा को चमकदार, नमी युक्त, मुलायम और चमकती त्वचा पाने में मदद करेगा और गर्मियों के दौरान आपकी पाचन क्रिया को दुरुस्त रखेगी

आहार : –

ग्रीष्मकाल के दौरान, थोड़े समय के अंतराल पर थोड़ी थोड़ी मात्रा में खाना खाने की कोशिश करें। गर्मी में अपनी भूख कम न करें बल्कि हल्का खाने की कोशिश करें और भारी भोजन करने से बचें।

हरी सब्जियाँ और ताज़े फल जैसे टमाटर, सेब, नाशपाती, तरबूज, ककड़ी, शकरकंद, जमे हुए अंगूर, अनानास और पपीता का सेवन बढ़ाये।

ये पचाने को ठीक रखने में मदद करते हैं और आपके शरीर को हाइड्रेट भी करते हैं।  साथ ही ये कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं और फाइबर से भरपूर होते हैं।

यह भी पढ़ें : अक्सर पेट में गैस बनना और पेट फूला लगने के पीछे ये जो सकती है वजह

सूखे मेवे, खजूर भी इस्तेमाल करे क्योंकि ये प्रोटीन, आयरन, फाइबर, कैल्शियम और विटामिन से भरपूर होते हैं और आपकी आंखों और त्वचा को सूर्य की अल्ट्रा वायलट किरणों से बचा सकते हैं।

खाने के बाद सीधे बिस्तर पर जाने से बचें और अपने पाचन को ठीक करने के लिए तेज चलने की कोशिश करें।
खाने के बाद सीधे बिस्तर पर जाने से बचें और अपने पाचन को ठीक करने के लिए तेज चलने की कोशिश करें।

प्रोबायोटिक युक्त भोजन के सेवन से दही की तरह पाचन में मदद मिलती है।  इसमें मौजूद बैक्टीरिया पाचन प्रक्रिया को आसान बनाते हैं और पेचिश से भी राहत दिलाते हैं।

व्यायाम :-

व्यायाम या योग आपके पूरे शरीर को संतुलित रखता है।  यह आपके शरीर में ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करता है, जो ऑक्सीजन की आपूर्ति को बढ़ाता है और डैमेज टिश्यू को ठीक करता है।

सभी उम्र और लिंग के लोगो को व्यायाम, योग, घूमना और दौड़ना को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।

यह भी पढ़ें : जानते हैं किन चीजों को सोने से पहले नहीं खाना चाहिए

ये गतिविधियाँ पाचन की समस्याओं को कम कर सकती हैं और तनाव को कम करने के लिये रोजाना एक्सरसाइज और पर्याप्त नींद लें।

खाने के बाद सीधे बिस्तर पर जाने से बचें और अपने पाचन को ठीक करने के लिए तेज चलने की कोशिश करें।  मसालेदार, तला हुआ और एसिडिक भोजन से बचें,

वसायुक्त, मसालेदार, एसिडिक और तले हुए खाद्य पदार्थ पचने में अधिक समय लेते हैं और पेट के हाजमें को खराब कर के परेशानी को बढ़ाते हैं।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

क्यों होता है पेट का कैंसर ( Colon Cancer ) ? क्या है इसके शुरुआती लक्षण

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर कि किसी भी हिस्से मे कभी भी हो सकती है। ज्यादातर हम लोग गले का कैंसर,...

सुबह के समय नाश्ते में Chocolate खाना है Beneficial For Health

चॉकलेट खाना हम सभी को अच्छा लगता है। लेकिन कुछ लोग किसी न किसी कारण से Chocolate खाना बंद कर देते है। लेकिन चॉकलेट...

Food Security में सबसे बड़ा खतरा बन रहा बढ़ता हुआ ऊसर क्षेत्र

हमारे देश में जिस तेजी से ऊसर क्षेत्र बढ़ा रहा है, यह खेती के साथ-साथ Food Security के लिए भी बड़ा संकट उत्पन्न कर...

आइये जाने क्या है बायो बबल (Bio Bubble) का घेरा जिससे खिलाड़ी रहेंगे सुरक्षित

कोरोना वायरस महामारी चीन से शुरू होकर पूरी दुनिया को दहशत में डाले है। मार्च से इसका प्रकोप बढ़ने लगा और यह लगातार वक्त...

सोने और चांदी से भी ज्यादा कीमती क्यों होता है व्हेल मछली की उल्टी

जैसा कि दुनिया में सभी जानते हैं सोना, चांदी और हीरा बहुमूल्य चीजें है। लेकिन बहुत कम ही लोगों को मालूम होगा कि सोना...