आईपीएल 2020 में राजस्थान और पंजाब के बीच खेले गए मैच में बने रिकॉर्ड राहुल तेवतिया ने जड़े 5 छक्के

आईपीएल 2020

आईपीएल 2020

इन दिनों आईपीएल 2020 खेला जा रहा है। जैसा कि सभी जानते हैं क्रिकेट अनिश्चिताओं से भरा खेल है और जब तक मैच की आखिरी गेंद न खेली जाए तब तक इस बारे में कुछ भी कहना मुश्किल होता है। यह कथन रविवार को सही साबित हुआ।

शारजाह के मैदान में आईपीएल का 9वां मैच राजस्थान और पंजाब के बीच खेला गया, जिसमें राहुल तेवतिया की वजह से क्रिकेटर में रोमांचक चरम पर पहुंच गया और इस मैच में कई रिकॉर्ड बने राहुल तेवतिया ने इस मैच में 5 छक्के लगाए पर 6 छक्के का रिकॉर्ड बनाने से चूक गये।

पंजाब और राजस्थान के बीच खेले गए इस मैच में राहुल एक बार अपनी टीम के लिए विलन बनने वाले थे क्योकि वो काफी स्लो खेल रहे थे लेकिन विलन बनते बनते वह हीरो बन गए।

दरअसल पंजाब की टीम ने राजस्थान को 224 रन का लक्ष्य दिया था। पंजाब द्वारा दिए गए लक्ष्य का पीछा करने उतरी राजस्थान की टीम ने बल्लेबाजी क्रम में बड़ा बदलाव किया और स्टीव स्मिथ के आउट होने के बाद चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए राहुल तेवतिया को भेज दिया गया।

नौवें ओवर में जब राहुल बल्लेबाजी करने के लिए आये तब टीम को 66 गेंदों में 224 रन की जरूरत थी। उधर राजस्थान रॉयल के उप कप्तान संजू सैमसंग दूसरे छोर से बल्लेबाजी कर रहे थे और 20 गेंदों में 41 रन बना लिए थे।

लेकिन मैच को जीतने के लिए राजस्थान को और तेजी से रन बनाने की जरूरत थी। वही तेवतिया बेहद धीमी बल्लेबाजी कर रहे थे। एक वक्त था सैमसंग 34 गेंद में 63 रन बना चुके थे वही तेवतिया 16 गेंद में मात्र 7 रन ही बना पाए थे और कोई भी बाउंड्री नहीं लगाए थे।

यह भी पढ़ें : “केरल एक्सप्रेस” यानी कि श्री संत 7 साल के बैन के बाद वापसी के लिए बेकरार

राहुल के स्लो बल्लेबाजी की वजह से ही संजू सैमसंग रिस्क लेकर शार्ट लगाना शुरु कर दिए जिसका अंजाम यह हुआ कि सैमसंग ने 17 वें ओवर की पहली गेंद पर 85 रन बनाकर रन आउट हो गए।

एक बार को लगने लगा कि राजस्थान रॉयल्स अब हार जाएगी लेकिन 17 वें ओवर की समाप्ति के बाद 23 गेंदों में 17 रन बनाकर खेल रहे राहुल ने अचानक से मैच का रुख बदल दिया।

राजस्थान को जीतने के लिए 18 गेंद में 51 रन चाहिए थे और इसके बाद जो हुआ सभी हैरान हो गए और क्रिकेट का रोमांच अपने चरम पर पहुंच गया। 18 वें ओवर की गेंदबाजी पंजाब की तरफ से शेल्डन कोट्रेल ने फेकने शुरू की।

शुरुआत की 4 गेंदों पर लगातार राहुल ने 4 छक्के जड़ दिये। पांचवी गेंद मिस होने के बाद अगली गेंद पर फिर से उन्होंने छक्का जड़ दिया और इस तरह से 18वें ओवर में 5 गेंदों में 30 रन बन गए और देखते ही देखते मैच का रुख बदल गया।

अब राजस्थान को जीतने के लिए 12 गेंदों पर 21 रन चाहिए थे वही राहुल तेवतिया 29 गेंदों में 47 रन बना लिए थे।

अगले 19 वें ओवर की गेंदबाजी पंजाब की तरफ से मोहम्मद शमी ने की और मोहम्मद शमी की पहली ही गेंद पर राहुल तेवतिया ने छक्का जड़कर अपना अर्धशतक बना लिया और राजस्थान की टीम जीत के करीब पहुंच गई। राजस्थान ने पंजाब को हराकर तीन गेंद शेष रहते ही लक्ष्य को हासिल कर लिया और 226 रन बनाकर मैच जीत लिया।

यह भी पढ़ें : बीसीसीआई माही को विदाई मैच खिलाने का प्लान बना रही

राहुल तेवतिया के प्रदर्शन पर वीरेंद्र सहवाग और युवराज सिंह ने भी प्रतिक्रिया दें। फरीदाबाद के रहने वाले 27 वर्षीय राहुल तेवतिया पिछले मैच में अपनी गेंदबाजी से प्रभावित किए थे लेकिन बल्लेबाजी से अपना दम दिखा दिया।

तेवतिया पर एक पारी में छह गेंदों में छह छक्के जड़ने वाले राहुल युवराज सिंह ने प्रतिक्रिया देते हुए सोशल मीडिया पर लिखा एक गेद छोड़ने के लिए धन्यवाद। युवराज सिंह ने राहुल तेवतिया को टैग करके अपने टि्वटर हैंडल पर लिखा है “ना भाई ना, एक गेंद छोड़ने के लिए धन्यवाद।

क्या मैच था, एक शानदार जीत के लिए राजस्थान रॉयल्स को बधाई। वही युवराज सिंह ने मयंक अग्रवाल और संजू सैमसन की भी तारीफ की।

पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने भी राहुल तेवतिया की तारीफ की और अपने ट्विटर हैंडल पर मजाकिया अंदाज में लिखा “तेवतिया में माता आ गई, क्या मैच था ऐसा क्रिकेट और ऐसा ही जीवन में मिनटों में सब कुछ बदल जाता है”।