कांग्रेस से ज्योति राज सिंधिया ने दिया इस्तीफा , भाजपा में हो सकते है शामिल !

कांग्रेस से ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिया इस्तीफा , भाजपा में हो सकते है शामिल !

ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस के एक जाने-माने नेता थे । राहुल गांधी की यूथ ब्रिगेड में ज्योतिरादित्य सिंधिया, सचिन पायलट, जितिन प्रसाद, मिलिंद देवड़ा जैसे नेताओं का नाम शामिल था, जिसके बदौलत राहुल गांधी द्वारा कांग्रेस को एक नई ऊंचाई पर ले जाने की बात होती थी । ये नेता भाजपा के लिए एक चुनौती से कम नहीं थे लेकिन अब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है ।

कांग्रेस की नौका वैसे ही डूब रही है ऐसे में एक बड़े नेता का कांग्रेस से इस्तीफा देना पार्टी को और कमजोर करेगा । मालूम हो कि कांग्रेस पार्टी की स्थापना आजादी से बहुत पहले, आजादी की लड़ाई शुरूआत करने के दौरान 1885 में हुई थी ।

आजादी की लड़ाई में कांग्रेस का विशेष योगदान रहा है और कांग्रेस ने लंबे समय तक भारत पर शासन किया है । हालांकि इन दिनों कांग्रेस पार्टी बेहद कमजोर हो गई है और अपने वजूद को बचाने के लिए लड़ रही है । मालूम हो कि ज्योतिरादित्य सिंधिया जो कि मध्यप्रदेश के सिंधिया राजघराने से ताल्लुक रखते हैं, उसके परिवार का संबंध भाजपा और कांग्रेस दोनों से काफी लंबे समय से रहा है ।

इनके पिता माधवराव सिंधिया का संबंध राहुल गांधी के पिता राजीव गांधी से रहा है दोनों में अच्छी दोस्ती थी और यही वजह है कि ज्योतिराज सिंधिया कांग्रेस से जुड़े ।

लेकिन यह हमेशा पार्टी में हाशिए पर ही रहे और नज़रंदाज़ किये गए । इन्हें कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेताओं द्वारा कमतर ही आंका जाता था जिसकी वजह से काफी लंबे समय से कांग्रेस में अध्यक्ष पद के लिए भी खींचतान जारी है । कई बार या मांग उठी थी कि ज्योतिरादित्य संध्या को कांग्रेस का अध्यक्ष बना दिया जाए ।

लेकिन सोनिया गांधी को कांग्रेस में ही अपने बच्चों का भविष्य नजर आ रहा है और इसलिए गांधी परिवार के अलावा कांग्रेस का अध्यक्ष कोई और बन नहीं पा रहा है ।वही बात करें ज्योतिरादित्य सिंधिया की तो उनका संबंध ग्वालियर के राजघराने से रहा है, साथ ही मध्यप्रदेश में इनकी एक मजबूत पकड़ है और लोग उनकी इज्जत करते हैं ।

मालूम हो कि मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार है लेकिन इन्हें सिंधिया और  सिंधिया परिवार का समर्थन भी प्राप्त है । याद दिला दे कि अभी कुछ समय पहले यह भी खबर उठी थी कि सचिन पायलट और मिलिंद देवड़ा भाजपा ज्वाइन करने वाले हैं ।

अब इसे एक राजनीतिक महत्वाकांक्षा ही कहा जा सकता है और आगे अपने नेतृत्व संभालने की चाहत की वजह से भी सिंधिया ने यह कठोर कदम उठाया और कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया । मालूम हो कि सिंधिया पीढ़ी के यह तीसरे सदस्य हैं जिन्होंने कांग्रेस के साथ एक तरह से बगावत की है ।

इसके पहले विजया राजे सिंधिया ने भी कांग्रेस को छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे उसके बाद ज्योतिरादित्य के पिताजी माधव सिंधिया जिनकी राजीव गांधी से अच्छी दोस्ती थी, उन्होंने भी कांग्रेस का दामन छोड़कर एक नई पार्टी विकास कांग्रेस बनाई थी और अब उनके बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी कांग्रेस का दामन छोड़ दिया है ।

सिंधिया का भाजपा में शामिल हो जाते हैं तो मोदी और अमित शाह के लिए मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह का विकल्प खोजना आसान हो जाएगा । मालूम हो कि ज्योतिरादित्य सिंधिया की दादी और बुआ पहले से ही भाजपा में शामिल है । मध्यप्रदेश में पश्चिमी मध्य प्रदेश, मध्य भारत और चंबल के इलाकों में सिंधिया परिवार को जनता का समर्थन प्राप्त है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *