अखंड भारत के लिए टेस्ट मे पहला शतक बनाने वाले पहले खिलाड़ी लाला अमरनाथ

अखंड भारत के लिए टेस्ट मे पहला शतक बनाने वाले पहले खिलाड़ी लाला अमरनाथ

अखंड भारत के लिए टेस्ट मे पहला शतक बनाने वाले पहले खिलाड़ी लाला अमरनाथ

भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज लाला अमरनाथ आज से 87 साल पहले वह कारनामा किए थे जो कई महीने तक किसी भी बल्लेबाज ने उस समय कर के नही दिखा पाया था।

लाला अमरनाथ ने भारतीय टीम के लिए वह कारनामा किया था जो इसके पहले भारत के किसी बल्लेबाज ने नही किया था। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ मुंबई के मैदान में खेले गए मैच में भारत की तरफ से पहला टेस्ट शतक बनाया था, यह उनका डेब्यू मैच था।

हालांकि भारतीय टीम ने क्रिकेट खेलना कुछ समय पहले ही शुरू किया था और समय भारत और पाकिस्तान का बंटवारा नही हुआ था और भारत अखंड भारत के रूप में जाना जाता था।

दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने भारत की तरफ से पहला शतक बनाकर टेस्ट मैच में पहला शतक बनाने वाले खिलाड़ी बने थे, साथ ही अपने डेब्यू टेस्ट में भारत की तरफ से शतक बनाने वाले पहले खिलाड़ी के तौर पर भी जाने जाते हैं।

हालांकि उस टेस्ट मुकाबले में भारतीय टीम इंग्लैंड से 9 विकेट से हार गई थी। लेकिन उस मैच में बल्लेबाज लाला अमरनाथ द्वारा दूसरी पारी में बनाए गए 118 रन यह साबित कर दिया कि वह एक अलग तरह के बल्लेबाज हैं।

यह भी पढ़ें : धोनी के अचानक संन्यास लेने के फैसले के पीछे कि वजह

सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि इसके बाद उन्होंने कभी भी टेस्ट क्रिकेट में शतक नही लगाया।

आजाद भारत के पहले कप्तान लाला अमरनाथ को परिचय आजाद भारत के पहले कप्तान के तौर पर भी जाना जाता है। इनका जन्म 11 सितंबर 1911 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था।

लाला अमरनाथ को सिर्फ टेस्ट में पहला शतक जोड़ने के लिए ही नही बल्कि आजाद भारत के पहले कप्तान के तौर पर भी जाना जाता है। आजादी के बाद पहली बार कप्तान के तौर पर वह मैदान पर उतरे थे और सबसे पहले पाकिस्तान को ही उन्होंने मात दी थी।

बात 1933 की है जब पहली बार इंग्लैंड की टीम टेस्ट सीरीज खेलने के लिए भारत दौरे पर आई थी। इसी टेस्ट सीरीज के पहले टेस्ट में लाला अमरनाथ में टेस्ट मैच की दूसरी पारी में शतक बनाया था।

यह मैच मुंबई के ओल्ड जिमखाना स्टेडियम में खेला जा रहा था, जिसमें उन्होंने 21 चौके लगाए और 118 रन की शानदार पारी खेली। अपने दौर में लाला अमरनाथ को स्टाइलिश बल्लेबाज के तौर पर भी जाना जाता था।

हालांकि उन्होंने विदेशी सरजमीं पर कभी भी शतक नही लगाया। भारत के लिए विदेशी जमीन पर टेस्ट मैच में पहला शतक बनाने का खिताब सैयद मुश्ताक अली को दिया जाता है और आज उन्हीं के नाम पर भारतीय क्रिकेट बोर्ड द्वारा हर साल टी-20 टूर्नामेंट का आयोजन भी कराया जाता है।

यह भी पढ़ें : “केरल एक्सप्रेस” यानी कि श्री संत 7 साल के बैन के बाद वापसी के लिए बेकरार

बता दें कि मुस्ताक अली ने इंग्लैंड के मैनचेस्टर में खेले गए मैच में 17 चौकों की मदद से 112 रन की शानदार पारी खेली थी और यह मैच 25 जुलाई 1936 को खेला गया था।

लाला अमरनाथ ने 5 अगस्त 2000 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया। उन्होंने भारत के लिए कुल 24 टेस्ट मैच खेले और अपने पहले टेस्ट मैच में ही उन्होंने शतक जड़ा, उसके बाद पांच टेस्ट मैचों में उन्होंने अर्धशतक बनाये।

इस तरह उन्होंने 24 मैचों मे 40 पारियां खेली और 24.38 की औसत से उन्होंने कुल 878 रन बनाये। वह बल्लेबाजी के साथ-साथ गेंदबाजी भी करते थे। टेस्ट मैच में उनके नाम कुल 45 विकेट लेने का रिकॉर्ड भी दर्ज है।