17 C
Delhi
Monday, January 25, 2021

दूध बनाम दही बनाम छाछ: इनके खाने का सही समय क्या है?

Must read

आइए जानते हैं भारतीय संविधान की मूल प्रति क्यों रखी गई है गैस चेंबर में

26 जनवरी 2021 को भारत अपना 72 वाँ Republic Day ( गणतंत्र दिवस ) मनाने जा रहा है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत...

खांसी की समस्या को दूर करने के लिए इस तरह भाप में संतरा पका कर खाएं

खांसी की समस्या सर्दी के मौसम में बच्चे, बूढ़े, बड़े सब को परेशान करती है। लगातार खांसी की वजह से गले में दर्द और...

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

आइए जानते हैं सड़कों पर क्यों बनाई जाती है सफेद और पीले रंग की लाइन

हम सब ज्यादातर सड़क मार्ग से ही सफर करते हैं इसलिए ज्यादातर लोगों ने सड़क पर सफेद और पीले रंग की पार्टियों को देखा...

अगर सही समय पर भोजन और पेय पदार्थों का सेवन किया जाए तो हम कई बीमारियों से बच सकते हैं। आयुर्वेद के अनुसार, हमारा शरीर पांच तत्वों से बना है – पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश। ऐसे में अगर आप किसी भी समय भोजन करते हैं, तो इन तत्वों का संतुलन बिगड़ जाता है और बीमारियां शरीर को घेर लेती हैं।

अगर हम दूध, दही और छाछ की बात करते हैं, तो हम हर दिन इनका सेवन करना पसंद करते हैं। लेकिन क्या हमें इसके सेवन के समय के बारे में सही जानकारी है? आयुर्वेद, डॉ पूजा कोहली वीपी (आयुर्वेद विकास) के अनुसार, इन तीन चीजों का सेवन करने का सही समय मालूम होना चाहिए।

 दूध पीने का सही समय :-

आयुर्वेद इस बात पर जोर देता है कि सभी स्वस्थ व्यक्ति दूध का सेवन कर सकते हैं और सभी को दूध का सेवन करना चाहिए। यह स्वस्थ व्यक्तियों के लिए भी फायदेमंद है, और दूध से ज्यादा फायदेमंद कुछ भी नहीं है। आयुर्वेद में दूध को जीवनिया (जीवनदायिनी) माना जाता है।

दूध का नियमित सेवन सभी बीमारियों से बचाएगा और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को भी यह धीमा कर देगा। दूध अपने आप ही एक औषधि है। लेकिन दूध यदि अन्य दवाओं या जड़ी-बूटियों के साथ लिया जाता है, तो यह टॉनिक का काम करता है।

दूध का सेवन करने के लिए कोई विशिष्ट समय नहीं है। फिर भी आयुर्वेद मनुष्य के नींद लाने वाले गुणों के कारण दूध के सेवन के लिए शाम के समय की सिफारिश करता है। आयुर्वेद में दूध को संपूर्ण आहार माना गया है।

milk jug

इसमें सभी आवश्यक पोषक तत्व होते हैं जिनकी शरीर को आवश्यकता होती है। वैसे तो दिन में कभी भी दूध का सेवन किया जा सकता है। लेकिन रात में इसे पीने से शरीर की पूरी थकान खत्म हो जाती है और गहरी नींद लेने में मददगार होता है।

लेकिन दूध पचने में भारी होता है, इसलिए अगर इसे सुबह पिया जाए, तो दिनभर शरीर में ऊर्जा बनी रहती है। बुजुर्ग लोगों को दोपहर में दूध पीना चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार, दूध को किसी अन्य भोजन के साथ नहीं पीना चाहिए, क्योंकि यह पचाने में मुश्किल होता है। खाना खाने के दो घंटे बाद दूध का सेवन किया जा सकता है।

दही खाने का सही समय :-

आयुर्वेद के अनुसार दही को रात के समय नही खाना चाहिए क्योंकि इससे शरीर में विभिन्न बीमारियाँ होने की संभावना होती है। अगर किसी भी स्थिति में कोई व्यक्ति रात के समय दही लेना चाहता है तो इसे चीनी, शहद के साथ लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें : किशमिश का पानी है सेहत के लिए फायदेमंद

छाछ का सेवन एक नाश्ते के रूप में होता है क्योंकि यह पाचन अग्नि से जुड़े रोगों में प्राथमिक पाचन सहायता के रूप में काम करता है।  पाचन संबंधी सामान्य समस्याओं के लिए, छाछ (मठ्ठे) को नाश्ते के रूप में लिया जाना चाहिए।

yogurt

आयुर्वेद के अनुसार, दोपहर से पहले खाया जाए तो दही बहुत फायदेमंद है।  खाली पेट दही खाने से बीपी की समस्या हो सकती है (इसलिए, इसे नाश्ते में सेवन करें)। कई लोग रात में दही खाते हैं जो कि गलत है।

यह भी पढ़ें : स्ट्राबेरी में है स्वाद के साथ सेहत का खजाना

दही ठंडी होती है, इसलिए इसे रात में खाने से खांसी, जुकाम और फेफड़ों की बीमारी के साथ-साथ जोड़ों का दर्द भी हो सकता है।  खाने से पहले दही को कभी भी गर्म नहीं करना चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार, अगर दही में दही मिला कर खाया जाए तो यह हमें दिन भर के लिए तुरंत ऊर्जा देता है।

छाछ पीने का सही समय : –

दही की तुलना में छाछ गुणों में बहुत सुपर गुण होते है, क्योंकि सभी रोगों का मूल कारण कम पाचन अग्नि है और छाछ पाचन अग्नि पर काम करती है और सभी स्थितियों पर काम करती है।  हालांकि, बीमारी के अनुसार, जड़ी-बूटियों या मसालों को बदल दिया जाता है ।

butter milk

आयुर्वेद के अनुसार, छाछ को दिन में किसी भी समय पिया जा सकता है। आप इसे भोजन के बाद पी सकते हैं।  हालांकि, शाम या रात में इसका सेवन करने से पहले मौसम और जगह पर ध्यान देना जरूरी है। अगर आपको पेट की समस्या है, तो सुबह खाली पेट छाछ पिये।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

आइए जानते हैं भारतीय संविधान की मूल प्रति क्यों रखी गई है गैस चेंबर में

26 जनवरी 2021 को भारत अपना 72 वाँ Republic Day ( गणतंत्र दिवस ) मनाने जा रहा है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत...

खांसी की समस्या को दूर करने के लिए इस तरह भाप में संतरा पका कर खाएं

खांसी की समस्या सर्दी के मौसम में बच्चे, बूढ़े, बड़े सब को परेशान करती है। लगातार खांसी की वजह से गले में दर्द और...

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

आइए जानते हैं सड़कों पर क्यों बनाई जाती है सफेद और पीले रंग की लाइन

हम सब ज्यादातर सड़क मार्ग से ही सफर करते हैं इसलिए ज्यादातर लोगों ने सड़क पर सफेद और पीले रंग की पार्टियों को देखा...

आंखों की थकावट और सूजन को दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके

जब बहुत ज्यादा देर तक जब सोने के बाद सुबह सो कर उठे हैं तो अक्सर हमारी आंखें सूजी हुई और थकी हुई नजर...