आइए जानते हैं क्यों मनाते हैं मदर्स डे इसके इतिहास से जुड़ी कुछ बातें

आइए जानते हैं क्यों मनाते हैं मदर्स डे इसके इतिहास से जुड़ी कुछ बातें

आइए जानते हैं क्यों मनाते हैं मदर्स डे इसके इतिहास से जुड़ी कुछ बातें

Mother’s Day:

मां का जीवन त्याग, प्रेम, देखभाल, जिम्मेदारी जैसी कई चीजों से जुड़ा होता है। एक मां अपने बच्चे को बिना किसी शर्त के बेइंतेहा मोहब्बत करती है।

मां के इसी त्याग और बलिदान को याद रखने के मकसद से हर साल मई महीने के दूसरे रविवार को मदर डे के रूप में पूरी दुनिया में मनाया जाता है।

इस साल मदर डे 9 मई को पड़ रहा है क्योंकि 9 मई को मई महीने का दूसरा दावेदार है। इस दिन का अपना विशेष महत्व है। आइए जानते हैं मदर डे के इतिहास से जुड़ी कुछ बातें।

हर साल मई महीने के दूसरे रविवार को दुनिया भर में मातृ दिवस (मदर डे) के तौर पर मनाया जाता है। यह दिन दुनिया भर में विशेष त्योहार के रूप में मनाया जाता है। इस दिन लोग अपनी मां के प्रति सम्मान और प्यार को प्रकट करते हैं।

इसके लिए वह कई तरीके अपनाते हैं। कुछ लोग इस दिन अपनी मां को गिफ्ट देते हैं और उनके साथ वक्त बिताते हैं और अपने अपने तरीके से इस दिन को खास बनाने की कोशिश करते हैं। साल में एक ही दिन सही लेकिन इस दिन महिलाएं खुद पर गर्व महसूस करती हैं।

इस तरह हुई शुरुआत –

हर साल मई के महीने में मदर डे मनाते हैं। लेकिन इसकी शुरुआत की कहानी के पीछे में की बात को शायद ही लोगों को पता हो। तो हम आपको बता दें कि पहली बार मदर डे अमेरिका में मनाना शुरू हुआ था।

जब एक एना जावर्सी नाम की एक महिला ने अपनी मां की मृत्यु से पहले उनकी खुशियों को और उनकी यादों को सेलिब्रेट करने की ख्वाहिश की थी।

उस महिला ने एक विशेष नोट के साथ वेस्ट वर्जीनिया के सेंट एंड्रयूज मेथाडिस्ट चर्च में उनकी मृत्यु के 3 साल बाद 1908 में एक स्मारक रखा।

जबकि 1905 में उस महिला की मां का स्वर्गवास हो गया था। उन्हीं की पहल पर संयुक्त राज्य अमेरिका में मदर डे के दिन को छुट्टी के रूप में मान्यता मिली है और इसे एक अभियान के रूप में शुरु कर दिया गया।

इसके बाद 1911 में मदर डे को मान्यता मिल गई। इस दिन छुट्टी मना ही कर दी गई थी। लेकिन 1941 में वुड्रो विल्सन ने मई के दूसरे रविवार को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करते हुए एक घोषणा पर हस्ताक्षर किया।

कहा जाता है कि जिंदगी में मां का स्थान सर्वप्रथम होता है। एक इंसान एक माँ जिंदगी में कई कई रिश्ते बिना किसी स्वार्थ के ताउम्र निभाती है। मां का दर्जा इसलिए काफी ऊंचा माना जाता है।

वह बिना स्वार्थ भाव से अपने बच्चों को प्यार करती है अपने परिवार और अपने पति की देखभाल करती है। घर की देखभाल करती है और बिना किसी छुट्टी के पूरी जिंदगी काम करती रहती है।

इसलिए मदर डे के अवसर पर बच्चे अपनी मां को स्पेशल महसूस करवाने के लिए और उन्हें खुश करने के लिए अपने अपने ढंग से कोशिश करते हैं और उस दिन को यादगार बनाते हैं। इस दिन हर बच्चा अपनी मां को खुश देखने के लिए हर कोशिश करता है।

यह भी पढ़ें :– आइए जानते हैं बंगाल में मिले कोरोना के ट्रिपल म्यूटेशन वैरीएंट और इसके खतरे के बारे में