यह समय खुद को पहचान कर बुलंदियों पर ले जाने का समय है
राजनीति

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अनुसार यह समय खुद को पहचान कर बुलंदियों पर ले जाने का समय है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अनुसार कोरोना वायरस महामारी के दौरान उत्पन्न हुआ यह समय भले ही मुश्किल समय है लेकिन यह समय है कि खुद की पहचान करके इस समय को अवसर के रूप में लिया जाए और खुद को बुलंदियों तक पहुंचाया जाए। गुरुवार सुबह प्रधानमंत्री ने इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स के 95 वे सालाना कार्यक्रम का संबोधन एक वीडियो कांफ्रेंस के जरिए किया, जिसमें कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट को उन्होंने अवसर के रूप में लेने की बात कही।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह चेंबर ऑफ कॉमर्स के और करोड़ों देशवासियों पर चेहरे पर वह एक नया विश्वास और आशा देख सकते हैं, पूरा देश इस समय संकल्प से भरा हुआ, लोग इस आपदा को अवसर में बदलने के लिए आतुर है जो कि एक बहुत बड़ा टर्निंग प्वाइंट हो सकता है। यह वक्त है – आत्मनिर्भर बनाने का।

मालूम हो कि इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में भारतीय उद्योग परिसंघ ने भी भाग लिया था। प्रधानमंत्री ने कहा कि चेंबर ऑफ कॉमर्स में पूर्वी भारत के लिए जो काम आज तक किया है वह काफी महत्वपूर्ण है, इसने देश मे विभाजन, अकाल और अन्य कई संकट देखे हैं और 95 सालों से लगातार देश की सेवा कर रहा है, एक बार फिर से इसके सामने चुनौतियां हैं क्योंकि इस समय पूरा देश कोरोना वायरस महामारी के संकट से जूझ रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक राष्ट्र के रूप में इच्छाशक्ति उनकी बहुत बड़ी ताकत है और यह हर मुसीबत की एक दवा है। प्रधानमंत्री का कहना है कि इस समय पूरा देश इस आपदा को अवसर में बदलने में लगा हुआ है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस की वजह से उत्पन्न यह समय अवसर को पहचानने और खुद को आजमाने का सबसे सही समय है और खुद की पहचान करके खुद को बुलंदियों पर ले जा सकते हैं। इस संकट की घड़ी से सीख लेते हुए हमें इसका पूरा लाभ लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें : 20 लाख करोड़ के पैकेज के साथ पीएम मोदी की आत्मनिर्भरता की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भरता का भाव सालों से भारतीयों के मन में रहा है लेकिन इसमें एक बड़ा काश हर भारतीय के मन में रहता है कि काश देश जो चीजें दूसरे देशों से आयात करने के लिए मजबूर है वह भारत में कैसे बन पाए और आने वाले भविष्य में भारत उन चीजों का निर्यात कैसे कर सके। अब यह सही वक्त है। हमें इस दिशा में तेजी से काम करने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री का कहना है कि इस समय पूरा देश इस आपदा को अवसर में बदलने में लगा हुआ है।
प्रधानमंत्री का कहना है कि इस समय पूरा देश इस आपदा को अवसर में बदलने में लगा हुआ है।

अब लोगों के मन में प्लैनेट फ्रेंडली डेवलपमेंट का एप्रोच बढ़ रहा है और यह देश की गवर्नमेंट का भी हिस्सा बन गया है।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि भारत में इस समय कोरोनावायरस के अलावा भी अन्य कई संकट है और भारत इन तमाम संकट से एक साथ मिलकर लड़ रहा है। इस संकट की घड़ी में संकल्प उज्जवल भविष्य की राह दिखाता है और किसी संकट से इंसान जितनी मजबूती से लड़ता है यह आने वाले अवसर को तय करता है।

यह भी पढ़ें : भारत शक्तिशाली देशो के वैश्विक मंच जी-7 मे हो सकता है शामिल

मन के हारे हार मन के जीते जीत होती है। अगर हमारी इच्छा शक्ति मजबूत है तो हमारे मार्ग में आने वाली कोई भी बाधा, बाधा नहीं बन सकती है लेकिन अगर पहले से ही हार मान ली जाए तो नए अवसर को ढूंढ़ना तो दूर मुस्किलो स लड़ा भी नहीं जा सकता है। वहीं अगर एक दूसरे के सहयोग के साथ मुश्किलों को अवसर में बदलते हुए आगे बढ़ा जाए तो सफलता सुनिश्चित होती है और आगे भी अवसर बनते जाते हैं।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रिपल पी की बात की यानी कि पीपल प्लेनेट और प्रॉफिट। यह तीनों ही चीजें एक दूसरे से इंटरलिंक्ड होती हैं। अब लोगों के मन में प्लेनेट फ्रेंडली डेवलपमेंट का एप्रोच बढ़ रहा है और यह देश की गवर्नेंस का भी अहम हिस्सा बन गया है। अब जो भी तकनीक का इस्तेमाल हो रहा है वह ज्यादातर पीपल, प्लेनेट और प्रॉफिट की विचारधारा के अनुकूल है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *