21 C
Delhi
Saturday, February 27, 2021

एक अमेरिकी राष्ट्रपति जिसपर हुई थी 6 गोलियों की बौछार, गोली भी लगी पर जान बच गई

Must read

ओटीटी (OTT) प्लेटफॉर्म क्या है और यह डिजिटल मीडिया पर क्यों धूम मचा रहा है?

आज से कुछ साल पहले लोगों को कई सारे काम करने के लिए घर से बाहर जाना होता था। किंतु आज के इंटरनेट के...

पीएम किसान सम्मान : RTI से पता चला 20 लाख से अधिक अपात्र लोगों को भेज दी गई करोड़ों की धनराशि

लोकसभा चुनाव के ठीक मोदी - 2 सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना पीएम किसान सम्मान को लागू...

अफ्रीका का यह राजा हर साल शादी करता है और जी रहा आराम की जिंदगी

दुनिया के अधिकांश देशों से राजशाही व्यवस्था को सालो पहले से खत्म कर दिया गया है। लेकिन अफ्रीका में आज भी एक ऐसा देश...

आइए जानते हैं टीवी चैनल्स के आमदनी का जरिया टीआरपी(TRP) के बारे में

आज कल हम अक्सर यह सुनते हैं कि टीवी चैनल की टीआरपी बढ़ रही है या फिर घट रही हैं। दरअसल टीवी चैनल की...

क्या आप अमेरिका के उस राष्ट्रपति के बारे में जानते हैं जिस पर गोलियों की ताबड़तोड़ बौछार करके मौत के घाट उतारने की कोशिश हुई थी ? अब आपके मन मे सवाल आएगा कि क्या वाकई में किसी अमेरिकी राष्ट्रपति को इस तरीके से मारा जा सकता है क्योंकि राष्ट्रपतियों की सुरक्षा तो बहुत ज्यादा होती है ? हा लेकिन एक वक्त था जब इतनी सुरक्षा के बीच ऐसी घटना हुई थी ।

लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडी की हत्या के बाद अमेरिका में राष्ट्रपति की सुरक्षा को बढ़ाया गया था । कैनेडी की हत्या के बाद से हर अमेरिकी राष्ट्रपति को हर समय बुलेट प्रूफ जैकेट पहनना रहता था और यह नियम उनके बॉडीगार्ड पर भी लागू था ।

लेकिन एक वक्त ऐसा था जब अमेरिकी राष्ट्रपति  रोनाल्‍ड रेगन ने बुलेट प्रूफ जैकेट नहीं पहनी हुई थी और उनकी कार उनसे मात्र 30 फीट की दूरी पर ही थी । उनके सभी बॉडीगार्ड काफी सतर्क भी थे लेकिन किसी को भी यह भनक तक नहीं थी कि वहां पर मौजूद एक शख्स रिवाल्वर लिए हुए है और राष्ट्रपति की हत्या के इरादे से वहां मौजूद है ।

लेकिन मालूम हो कि जब उस शख्स ने राष्ट्रपति पर गोलियां चलानी शुरू की थी तो एक भी गोली उन्हें सीधी नहीं लगी थी जैसे ही गोलियों की बौछार सुरु हुई हैं राष्ट्रपति सुरक्षाकर्मियों के घेरे में वे आ गए और उन्हें तुरंत कार के अंदर ले जाया गया । लेकिन यह बस एक संयोग था कि उनके बुलेट प्रूफ कार के शीशे से एक गोली टकरा गई और शीशे से गोली टकराने के बाद राष्ट्रपति के बाईं चेस्ट में लग गई जिसके बाद उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया अस्पताल पहुंचने में उन्हें मात्र 4 मिनट लगे ।

लेकिन इसी दौरान उन्हें खून की उल्टियां होनी शुरू हो गई क्योंकि यह गोली सीने से लगाते हुए उनके फेफड़े में जा पहुंची थी और दिल से कुछ ही इंच दूर थी और जब उन्हें जॉर्ज वाशिंगटन अस्पताल में पहुंचाया गया तो यह संयोग ही है कि वहां पर स्ट्रेचर नहीं मौजूद था जिसके चलते उन्हें खुद अपने पैरों पर चलकर अस्पताल के अंदर जाना पड़ा था और इसी बीच उनके चेहरे पर बेहोशी आने लगी थी ।

सांस लेने में दिक्कत होने लगी और कुछ ही देर में वे घुटनों के बल जमीन पर बैठ गए । अस्पताल में मौजूद सभी डॉक्टर ऑपरेशन की तैयारी करने लगे और गोली को उनके शरीर से निकाल दिया और उनकी जान बच गई ।

जब रोनाल्‍ड रेगन होश में आए तो उन्होंने मजाकिया अंदाज में पूछा की “उम्मीद है कि आप सब यहां रिपब्लिकन ही होंगे” मालूम हो कि इस घटना के बाद रेगन दोबारा से एक महीने के अंदर ही वाइट हाउस अपने काम पर लौट आए और  अमेरिका में दोबारा राष्ट्रपति का चुनाव हुआ तब वे दुबारा राष्ट्रपति चुने गए ।

बता दे कि रोनाल्‍ड रेगन  को अमेरिका के सबसे सफलतम राष्ट्रपतियों में गिना जाता है । शीत युद्ध खत्म करने में भी रेगन का महत्वपूर्ण योगदान रहा था । इनकी मृत्यु 5 जून 2004 को हुई थी । ये एक बेहतरीन राष्ट्रपति थे ।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

ओटीटी (OTT) प्लेटफॉर्म क्या है और यह डिजिटल मीडिया पर क्यों धूम मचा रहा है?

आज से कुछ साल पहले लोगों को कई सारे काम करने के लिए घर से बाहर जाना होता था। किंतु आज के इंटरनेट के...

पीएम किसान सम्मान : RTI से पता चला 20 लाख से अधिक अपात्र लोगों को भेज दी गई करोड़ों की धनराशि

लोकसभा चुनाव के ठीक मोदी - 2 सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना पीएम किसान सम्मान को लागू...

अफ्रीका का यह राजा हर साल शादी करता है और जी रहा आराम की जिंदगी

दुनिया के अधिकांश देशों से राजशाही व्यवस्था को सालो पहले से खत्म कर दिया गया है। लेकिन अफ्रीका में आज भी एक ऐसा देश...

आइए जानते हैं टीवी चैनल्स के आमदनी का जरिया टीआरपी(TRP) के बारे में

आज कल हम अक्सर यह सुनते हैं कि टीवी चैनल की टीआरपी बढ़ रही है या फिर घट रही हैं। दरअसल टीवी चैनल की...

कोरोना काल में लोगों में बढ़ा मोटापा, आर्थिक चिंता और भावनात्मक तनाव से भी हैं लोग परेशान

कोरोना वायरस महामारी पर काबू पाने के लिए दुनिया भर के कई देशों ने लॉकडाउन के विकल्पों को अपनाया था। अब इसके संबंध में...