ओलंपियन पहलवान सुशील हत्या करके फरार, लोकेशन उत्तराखंड में मिली

ओलंपियन पहलवान सुशील हत्या करके फरार

ओलंपियन पहलवान सुशील हत्या करके फरार

दो बार के ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार का नाम हत्या में आया है और वह फरार हैं। यह पहला मौका नहीं है जब किसी मारपीट में या झगड़े में सुशील का नाम आया है।

इसके पहले भी आईटीओ स्थित इंदिरा गांधी इनडोर स्टेडियम में वह साथी पहलवान को पीट चुके हैं। तब उनके खिलाफ पीड़ित पहलवान ने आईपी एस्टेट थाने में मुकदमा करवाया था।

लेकिन उस वक्त सुशील की गिरफ्तारी पुलिस ने नहीं की थी। उसके बाद सुशील का नाम माफियाओं के साथ भी जोड़ा जाता रहा है। दिल्ली एनसीआर के कुछ गैंगस्टर के साथ उनके जुड़ाव की बात कही गई है।

वह इन लोगों के साथ मिलकर टोल वसूली के ठेके, डम्बलों की सप्लाई जैसे कामों में संदीप शामिल रहे हैं। मगर इस बार छत्रसाल स्टेडियम के उभरते हुए अंतरराष्ट्रीय पहलवान सागर धनखड़ की हत्या में उनका मामला नाम आया है। उसी के बाद से सुशील फरार है।

बता दे कि सुशील ने दो बार ओलंपिक पदक जीतकर काफी नाम कमाया है। पिछले कई सालों से सुशील का नाम कुख्यात गैंगस्टर सुंदर भाटी जैसे गैंगस्टर और उनके संगठनों से नाम जुड़ता रहा है।

जिसकी वजह से उनकी छवि धूमिल होने लगी। लेकिन इस बार सागर धनकड़ की हत्या के बाद सुशील और वारदात में शामिल होने अन्य साथी पहलवान फरार है।

उत्तराखंड में मिली लोकेशन –

सुशील की मोबाइल लोकेशन से पता चल रहा है कि वह हत्या करके उत्तराखंड में भाग गए हैं। पुलिस लगातार वारदात में शामिल सुशील समेत सभी आरोपियों की तलाश में छापेमारी कर रही है।

छत्रसाल में लगे सीसीटीवी फुटेज में गिरफ्तार किए गए आरोपी प्रिंस दलाल और घायल पहलवान अमित और सोनू से पूछताछ हो रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हत्या में 20 से अधिक लोगों के शामिल होने की संभावना है।

मालूम हो कि सागर धनकड एक उभरता हुआ पहलवान था। दो-तीन बार वह अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग ले चुका है। सागर धनकड के पिता दिल्ली पुलिस में हवलदार है और बेगमपुर थाने में तैनात है।

पुलिस पर उठे सवाल –

सुशील पर कई साल पहले आईटीवी स्थित इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में पहलवान साथी प्रवीण की पिटाई करने का मामला आया था। उस वक्त आईपी एस्टेट थाने में मुकदमा भी दर्ज करवाया गया था।

लेकिन पुलिस ने उनकी गिरफ्तारी नहीं की थी। सागर की हत्या के बाद मॉडल थाना पुलिस द्वारा पीसीआर काल के आधार पर थाने में डीडी एंट्री करके मुकदमा दर्ज दिया गया है।

जिस पर सवाल उठा रहे हैं। सागर के परिजनों का आरोप है कि इससे आरोपितों को फायदा मिलने की संभावना है। बता दें कि मंगलवार को देर रात पीसीआर में कॉल आई थी कि छत्रसाल स्टेडियम में गोलियां चल रही है।

ऐसा बताया गया है कि जब पुलिस मौके पर पहुंचती है तब हम पर कोई भी चश्मदीद नहीं मिला। वहीं घायल सागर, अमित और सोनू अस्पताल में भर्ती पाए गए। अब देखना यह है कि सागर धनकर मामले में सुशील की गिरफ्तारी कब होती है और पुलिस उन पर क्या आरोप लगाती है?