टाटा समूह में बड़े बदलाव की तैयारी

टाटा समूह में बड़े बदलाव की तैयारी: अब सीईओ चलाएंगे कारोबार, चेयरमैन और सीईओ के पद होंगे अलग

भारत की सबसे बड़ी व्यावसायिक इमारत टाटा संस लिमिटेड अब ऐतिहासिक बदलाव का सामना कर रही है। टाटा समूह अपने कॉर्पोरेट प्रशासन में सुधार के लिए एक मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) की तलाश कर रहा है। यानी अब ग्रुप में चेयरमैन और सीईओ अलग-अलग होंगे।

 

टाटा समूह 153 साल पुराना है

सूत्रों के मुताबिक प्रस्तावित योजना के तहत नए सीईओ 153 साल पुराने टाटा कारोबारी साम्राज्य का नेतृत्व करेंगे। जबकि अध्यक्ष निरीक्षण अधिकारी के रूप में कार्य करेगा। हालांकि इस फैसले में रतन टाटा की मंजूरी सबसे अहम है। 83 वर्षीय रतन टाटा फिलहाल टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन हैं।

चंद्रशेखरन का कार्यकाल फरवरी 2022 में समाप्त हो रहा है।

टाटा संस के वर्तमान अध्यक्ष नटराजन चंद्रशेखरन का कार्यकाल फरवरी 2022 में समाप्त हो रहा है। आपको सेवा के विस्तार के लिए विचार किया जा रहा है। टाटा स्टील सहित टाटा समूह में विभिन्न कंपनियों के प्रमुखों का भी सीईओ पदों के लिए मूल्यांकन किया जाता है। इस पर अभी कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है। यह योजना भी परिवर्तन के अधीन है।

साइरस मिस्त्री विवाद से सबक

सूत्र बताते हैं कि सीईओ की पेशकश साइरस पी मिस्त्री के साथ साल भर की कानूनी लड़ाई जीतने के कई महीने बाद आई है। मिस्त्री ग्रुप के चेयरमैन थे। उन पर समूह में गड़बड़ी का आरोप लगाया गया था। 2016 में उन्हें पद से हटा दिया गया था। यह सुझाई गई योजना समूह के भविष्य की योजना बनाने में मदद कर सकती है।

रतन टाटा टाटा ट्रस्ट्स के अध्यक्ष हैं

यह स्पष्ट नहीं है कि टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष के रूप में रतन टाटा की जगह कौन लेगा। टाटा ट्रस्ट के पास टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी का 66% हिस्सा है। समूह के नए सीईओ को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। टाटा स्टील अपने 10 अरब डॉलर के कर्ज को कम करने की कोशिश कर रही है। दूसरी ओर, टाटा मोटर्स को लगातार तीन साल का नुकसान हुआ है।

एशिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी टीसीएस

एशिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा प्रदाता टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) एक सुपर एप पेश करने की योजना पर काम कर रही है। हालांकि उन्होंने इस प्लान को फिलहाल के लिए टाल दिया है। यह एक ऑल-इन-वन ईकॉमर्स ऐप होगा। यह समूह को डिजिटल स्पेस में सफलतापूर्वक अपनी ताकत बनाने में सक्षम बनाता है।

टाटा समूह 100 से अधिक व्यवसायों में शामिल है

100 से अधिक कंपनियों और दो दर्जन से अधिक सूचीबद्ध कंपनियों के साथ टाटा समूह की 2020 में वार्षिक बिक्री 106 बिलियन अमेरिकी डॉलर थी। इसमें 7.5 लाख कर्मचारी हैं। ये मजदूर कार, ट्रक बनाना, चाय बेचना, स्टील बनाना, बीमा बेचना, सॉफ्टवेयर बनाना और टेलीफोन नेटवर्क बनाना जैसे कई काम करते हैं।

टाटा की योजना सेबी की योजना के समान है

समूह के नेतृत्व में प्रस्तावित बदलाव भारतीय बाजार नियामक सेबी की योजना के अनुरूप है। उस नियामक की योजना में कहा गया है कि देश की शीर्ष 500 सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों के पास बेहतर शासन के लिए अप्रैल 2022 तक अध्यक्ष और सीईओ के रूप में अलग-अलग पद होने चाहिए। हालांकि टाटा संस सूचीबद्ध नहीं है, लेकिन नेतृत्व में यह बदलाव नियमों को नीचे रखने में मदद करेगा।

टाटा की सेवानिवृत्ति का संकेत

रतन टाटा की होल्डिंग के लिए एक पेशेवर प्रबंधक नियुक्त करने की योजना को रतन टाटा के सेवानिवृत्ति समारोह के हिस्से के रूप में देखा जा रहा है। क्योंकि रतन टाटा अब पूर्ण सेवानिवृत्ति के करीब हैं। हालांकि, रतन टाटा का कहना है कि वह अब व्यावसायिक निर्णयों में सक्रिय रूप से शामिल नहीं हैं। लेकिन वह अभी भी टाटा ट्रस्ट के माध्यम से समूह के प्रबंधन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है।

चंद्रशेखरन हैं रतन टाटा के सबसे भरोसेमंद अधिकारी

एन चंद्रशेखरन रतन टाटा के सबसे भरोसेमंद अधिकारियों में से एक हैं। उनका जन्म तमिलनाडु के नमक्कल जिले में हुआ था। यह दिलचस्प है कि वह आज टीसीएस में एक प्रशिक्षु थे, जिस समूह की कंपनी के वे अध्यक्ष हैं। 1986 में अपनी इंटर्नशिप के बाद, वह 1987 में पूर्णकालिक कर्मचारी बन गए। 1990 के दशक में वह समूह में प्रबंधन स्तर पर पहुंच गया। वह 35 वर्षों से इस समूह में हैं। 2009 में वे टीसीएस के सीईओ बने।

यह भी पढ़ें :–

डिजिटल करेंसी ट्रेडिंग: विकासशील देश क्रिप्टो के लिए सबसे बड़ा बाजार क्यों बन गए हैं?

 

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *