23.6 C
Delhi
Tuesday, March 2, 2021

वायरस की हो सकेगी अब जल्दी पहचान और चिकित्सा में मिलेगी मदद

Must read

बायो टेररिज्म को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत के पुणे और लखनऊ में BSL-4 लैब बनाई जाएगी

पुणे के बाद अब लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी एंड इनफेक्शन डिजीज के लिए बायोसेफ्टी लैब (BSL-4) की दूसरी...

Sania Mirza के अनुसार अपने हक और सम्मान के लिए हर किसी को बोलना होगा

भारतीय टेनिस स्टार खिलाड़ी Sania Mirza अपने मन के बात रखने के लिए जानी जाती हैं। लैंगिक समानता उनमें से एक एक महत्वपूर्ण मुद्दा...

ओटीटी (OTT) प्लेटफॉर्म क्या है और यह डिजिटल मीडिया पर क्यों धूम मचा रहा है?

आज से कुछ साल पहले लोगों को कई सारे काम करने के लिए घर से बाहर जाना होता था। किंतु आज के इंटरनेट के...

पीएम किसान सम्मान : RTI से पता चला 20 लाख से अधिक अपात्र लोगों को भेज दी गई करोड़ों की धनराशि

लोकसभा चुनाव के ठीक मोदी - 2 सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना पीएम किसान सम्मान को लागू...

अभी तक किसी ने संक्रमण का पता लगाने के लिए कम से कम एक दिन का समय लग जाता है । लेकिन शोधकर्ताओं ने एक ऐसी डिवाइस बनाई है जो वायरस के विभिन्न रूपो के विकास पर काम करके उनका तेजी से पता लगा सकती है । यह डिवाइस इतनी हल्की है कि इसे हाथ में पकड़ कर कहीं भी ले आया और ले जाया जा सकता है । इस डिवाइस को बनाने वाले शोधकर्ताओं का कहना है कि इस डिवाइस की सहायता से वायरस का संक्रमण आसानी से फैलने से रोका जा सकेगा ।

पेन स्टेट यूनिवर्सिटी से जुड़े शोधकर्ता टेरेनोस का कहना है कि “हमने एक किफायती डिवाइस बनाई है जो वायरस को उसके आकार के आधार पर पहचान कर सकती है । यह डिवाइस नैनोट्यूब्स का उपयोग करके बनाई गई है । नैनोट्यूब में वायरस की एक विस्तृत श्रृंखला जैसे दिखती है “। शोधकर्ताओं का कहना है कि वायरस की पहचान के लिए हमने इसमें रमन स्पेक्ट्रोस्कोपी का भी उपयोग किया है । इस तकनीक का प्रयोग संक्रमण का पता लगाने में आसानी से किया जा सकेगा ।

इसकी सहायता से संक्रमित का पता मिनटों में लगाया जा सकता है । शोधकर्ताओं ने अपनी इस विशेष डिवाइस को विररियोन नाम दिया है । शोधकर्ताओं का मानना है कि इस डिवाइस का उपयोग बड़े स्तर पर किया जा सकता है जैसे कि इस डिवाइस की मदद से किसानों को फसल की बुवाई के बाद समय रहते खेत में पहले वायरस का पता लगाया जा सकता है, पशुधन में भी वायरस का संक्रमण होने पर बड़े झुंड को इसकी चपेट से बचाया जा सकता है ।

यह भी पढ़ें :  इटली ने कोरोना वायरस वैक्सीन बना लेने का दावा किया

एझ डिवाइस की सहायता से किसी भी वायरस का संक्रमण बस कुछ ही मिनटों में पता लगाया जा सकता है जबकि अभी तक किसी भी संक्रमण का पता लगाने में कम से कम एक दिन का समय लग जाता है । यह शोध द प्रेसिडेंट ऑफ द नेशनल अकैडमी आफ साइंस में प्रकाशित किया गया । जिसमें यह कहा गया है कि इस डिवाइस के छोटे आकार और किफायती होने की वजह से इसका महत्व बढ़ जाता है क्योंकि कई बार डॉक्टर के लिए  हर मशीन को ऑफिस में लगाए रहना संभव नहीं हो पाता साथ ही दूरदराज के इलाकों में संक्रमण फैलने पर भारी भरकम मशीनों को वहां ले जाना मुमकिन नहीं होता है ।

vaccine virus

ऐसे में यह डिवाइस काफी मददगार साबित हो सकती है । क्रोनस के अनुसार अभी तक वायरस का पता लगाने के लिए जिन तकनीक का उपयोग किया जाता है वह काफी महंगी है ऐसे में यह नया डिवाइस लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प बन जाएगा । इस डिवाइस को बनाने वाले शोधकर्ता का कहना है कि इसकी गुणवत्ता में प्रभावी बनाने के लिए इस डिवाइस में सोने के नैनो पार्टिकल्स में लगाए हैं साथ ही कम वायरस की मौजूदगी पर भी हम इसका आसानी से पता लगा सकते हैं । शोधकर्ताओं ने मशीन लर्निंग विधि के जरिए एक लाइब्रेरी बनाई जिसमें अलग-अलग प्रकार के वायरस रखे गए ।

मालूम हो कि बीते कुछ दशकों में H1 N1, जीका वायरस,  इबोला वायरस के कारण कई लोगों की मौत हो गई थी क्योंकि समय रहते संक्रमण का पता नहीं लग पाया था । विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि यदि वायरस का पता जल्दी लगा लिया जाता तो इन बीमारियों से लोगो को बचा जा सकता था और इसे काफी कम किया जा सकता था ।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

बायो टेररिज्म को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत के पुणे और लखनऊ में BSL-4 लैब बनाई जाएगी

पुणे के बाद अब लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी एंड इनफेक्शन डिजीज के लिए बायोसेफ्टी लैब (BSL-4) की दूसरी...

Sania Mirza के अनुसार अपने हक और सम्मान के लिए हर किसी को बोलना होगा

भारतीय टेनिस स्टार खिलाड़ी Sania Mirza अपने मन के बात रखने के लिए जानी जाती हैं। लैंगिक समानता उनमें से एक एक महत्वपूर्ण मुद्दा...

ओटीटी (OTT) प्लेटफॉर्म क्या है और यह डिजिटल मीडिया पर क्यों धूम मचा रहा है?

आज से कुछ साल पहले लोगों को कई सारे काम करने के लिए घर से बाहर जाना होता था। किंतु आज के इंटरनेट के...

पीएम किसान सम्मान : RTI से पता चला 20 लाख से अधिक अपात्र लोगों को भेज दी गई करोड़ों की धनराशि

लोकसभा चुनाव के ठीक मोदी - 2 सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना पीएम किसान सम्मान को लागू...

अफ्रीका का यह राजा हर साल शादी करता है और जी रहा आराम की जिंदगी

दुनिया के अधिकांश देशों से राजशाही व्यवस्था को सालो पहले से खत्म कर दिया गया है। लेकिन अफ्रीका में आज भी एक ऐसा देश...