20 C
Delhi
Thursday, January 21, 2021

आइए जानते हैं सोने की कीमतों में इतना उतार चढ़ाव क्यों हो रहा है

Must read

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

आइए जानते हैं सड़कों पर क्यों बनाई जाती है सफेद और पीले रंग की लाइन

हम सब ज्यादातर सड़क मार्ग से ही सफर करते हैं इसलिए ज्यादातर लोगों ने सड़क पर सफेद और पीले रंग की पार्टियों को देखा...

आंखों की थकावट और सूजन को दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके

जब बहुत ज्यादा देर तक जब सोने के बाद सुबह सो कर उठे हैं तो अक्सर हमारी आंखें सूजी हुई और थकी हुई नजर...

क्या जापान जानता है Subhash Chandra Bose के गायब होने का पूरा सच!

आजादी के महानायक नेता Subhash Chandra Bose के गायब होने का सच जापान को पता है, ऐसा कहना है नेताजी के परपौत्र चंद्र कुमार...

इन दिनों सोने की कीमतों में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। बहुत लोग संपत्ति को सोने के रूप में रखना पसंद करते हैं और महिलाएं विशेष करके सोने के आभूषण पहनना पसंद करती हैं।

फिर चाहे पारिवारिक उत्सव हो, धार्मिक उत्सव या फिर कोई भी अन्य सांस्कृतिक काम, इसमे  सोना इसका एक अभिन्न हिस्सा होता है। शादी ब्याह के मौके पर मां बाप अपनी बेटी को सोने के गहने देते हैं। लेकिन इन दिनों सोने की कीमतों में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है।

मार्केट डायनॉमिक्स कई अन्य निर्धारक तत्व के साथ बाजार पर प्रभाव डालता है और यहां पर किसी भी चीज की मांग और पूर्ति का महत्वपूर्ण योगदान होता है।

आइए जानते हैं सोने की कीमतों को प्रभावित करने वाले कुछ महत्वपूर्ण कारकों को :-

आर्थिक अनिश्चितता :-

कोरोना वायरस महामारी के चलते दुनिया भर की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है। जब भी किसी अर्थव्यवस्था पर संकट आता है तब उससे इक्विटी बाजार, वैश्विक बाजार और फाइनेंसर इकोसिस्टम भी प्रभावित होता है।

मांग और पूर्ति में उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है और इसकी वजह से बाजार में अस्थिरता की स्थिति हो जाती है। बाजार की अनिश्चितता निश्चित ही निवेशकों को निवेश पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए भी प्रेरित करती है।

क्योंकि हर कोई अपने फाइनेंस को सुरक्षित विकल्प के रूप में हासिल करके आगे बढ़ना चाहता है। लोग किसी एसेट में कितना निवेश करते हैं यह मायने रखता है और सोना एक ऐसा विकल्प है जिसे लोग एसेट के रूप में रखना पसंद करते हैं। यही वजह है कि इसकी मां मांग बढ़ रही है और नतीजा यह है कि इसकी कीमतें भी बढ़ती जा रही हैं।

कोरोना वायरस महामारी के दौरान अपने देश भारत की बात करें तो अप्रैल से लेकर अब तक सोने की कीमतों में 11% की वृद्धि देखने को मिली है। 6 महीने पहले जहां सोने की कीमत ₹30000 प्रति 10 ग्राम थी आज 50000 से भी ऊपर पहुंच गई है।

सरकारी नीति :-

सोने के उपभोक्ताओं में भारत का स्थान दूसरा है। सरकार के द्वारा लिए गए फैसले से सोने की कीमत में प्रभावित होती है। जब भारत की केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया अपनी ब्याज दर,  और सरकार राजकोषीय नीति में सोने के वार्षिक अधिकरण की घोषणा करती है तब इससे बाजार कई रूपों में प्रभावित होता है।

जिसकी वजह से सोने और अन्य सभी चीजों की कीमतें ऊपर और नीचे जाती हैं। भारत में आर्थिक संकट की स्थिति में फाइनेंसियल बेलआउट पैकेज, कराधान नीति सरकार के नियंत्रण में होती है। इसलिए सरकार के फैसले से व्यापक आर्थिक प्रभाव देखने को मिलते हैं।

मुद्रास्फीति :-

कोरोना वायरस महामारी के दौरान आर्थिक मंदी से मुकाबला करने के लिए दुनिया भर की सरकारें अर्थव्यवस्था में तरलता को बढ़ाने के लिए मिलियन डॉलर के प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की। भारत के प्रधानमंत्री ने भी प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की थी।

इस तरह इसकी वजह से एक ऐसा वातावरण मिलता है जो नागरिकों को अतिरिक्त खर्चा करने की एक तरह से सुविधा देता है। कई लोग सोने में निवेश करके अपने फाइनेंस को सुरक्षित रखना चाहते हैं।

अगर पिछले दो दशकों के ट्रेंड को देखें तो वैश्विक आर्थिक संकटों के बाद सोने की कीमतों में लगातार वृद्धि देखी गई है। सामान्य रूप से लोग अपने एसिड को सोने के रूप में रखना प्रभावित कर पसंद करते हैं और किसी भी एसेट में निवेश मुद्रास्फीति द्वारा सीधे प्रभावित होता है।

जनसंख्या :-

भारत में जनसंख्या यानी कि डेमोग्राफिक डिविडेंड के बारे में अक्सर चर्चा होती रहती है और इसे एक वरदान की तरह बताया जाता है। कहा जाता है कि देश के विकास में जनसंख्या का महत्वपूर्ण योगदान है। भारत में कुल जनसंख्या का 50% से अधिक जनसंख्या 40 वर्ष से कम आयु की है।

कोरोना वायरस महामारी के दौरान करोड़पति और युवा पेशेवरों के खर्चे में बदलाव देखने की उम्मीद की जा रही है और वे किसी भौतिक संपत्ति में निवेश करने के बजाए यह सोने में निवेश करना पसंद करेंगे।

यह भी पढ़ें : भारत और चीन के बीच आने वाले भविष्य में छिड़ेगी वर्चस्व की जंग !

आज के समय में सरकार गोल्ड बॉन्ड, डिजिटल पेमेंट गेटवे पर उपलब्ध करा कर कई विकल्प की एक सूची दी है। जिसमें एक बटन के क्लिक पर सोने को खरीदा और बेचा जा सकता है।

Gold ornaments

इसके अलावा दक्षिण और पश्चिम भारतीय सांस्कृतिक में सोना एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। त्योहार के सीजन में अक्सर देखा जाता है कि सोने की कीमतें बढ़ जाती है।

बढ़ती आय :-

भारतीय अर्थव्यवस्था में पिछले कुछ दशकों से कई गुना वृद्धि देखी गई है। विशेषकर के मध्यम वर्ग आय में वृद्धि हुई है जिससे उनकी क्रय शक्ति बढ़ी है और ये लोग सोने में निवेश करना पसंद कर रहे हैं। बता दें कि भारत सोने का सबसे बड़े उपभोक्ता देशों में एक है।

यह भी पढ़ें : पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने दिया मोनेटाइजेशन का सुझाव

लोग अपने अतिरिक्त धन से सोना खरीदना पसंद करते हैं। लोगों की आय बढ़ने पर उनकी पहली पसंद सोने में निवेश करना होती है।

इसके अलावा भारत एक परिवार उन्मुख समाज होने के नाते अतिरिक्त आय खर्च करने का कारण बनती है और आमतौर पर इसके लिए सोने को जिम्मेदार ठहराया जाता है क्योंकि किसी भी शुभ मौके पर या फिर स्टेटस सिंबल के तौर पर भी लोग सोना खरीदना पसंद करते हैं। यह भी वजह है कि सोने की कीमतों में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है।

- Advertisement -corhaz 3

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

चाय बनाने के बाद इस्तेमाल की हुई चाय पत्ती से बनाए इस तरह बेहतरीन खाद Compost

भारत के लोग Tea पीने के बहुत शौकीन होते हैं। हर दिन हर घर में कम से कम एक बार चाय तो जरूर ही...

आइए जानते हैं सड़कों पर क्यों बनाई जाती है सफेद और पीले रंग की लाइन

हम सब ज्यादातर सड़क मार्ग से ही सफर करते हैं इसलिए ज्यादातर लोगों ने सड़क पर सफेद और पीले रंग की पार्टियों को देखा...

आंखों की थकावट और सूजन को दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके

जब बहुत ज्यादा देर तक जब सोने के बाद सुबह सो कर उठे हैं तो अक्सर हमारी आंखें सूजी हुई और थकी हुई नजर...

क्या जापान जानता है Subhash Chandra Bose के गायब होने का पूरा सच!

आजादी के महानायक नेता Subhash Chandra Bose के गायब होने का सच जापान को पता है, ऐसा कहना है नेताजी के परपौत्र चंद्र कुमार...

क्यों होता है पेट का कैंसर ( Colon Cancer ) ? क्या है इसके शुरुआती लक्षण

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो हमारे शरीर कि किसी भी हिस्से मे कभी भी हो सकती है। ज्यादातर हम लोग गले का कैंसर,...